HDFC बैंक के वाइस प्रेसीडेंट सिद्धार्थ संघवी का शव बरामद

मुंबई। पिछले पांच दिनों से लापता चल रहे HDFC बैंक के वाइस प्रेसीडेंट सिद्धार्थ संघवी का शव सोमवार को कल्याण के हाजी मलंग इलाके से बरामद कर लिया गया। सिद्धार्थ बीते 5 सितंबर से मुंबई स्थित अपने कमला मिल्स ऑफिस से लापता चल रहे थे। पुलिस ने उनकी हत्या के आरोप में 4 लोगों को हिरासत में लिया है। इनमें एक कैब ड्राइवर सरफराज शेख भी शामिल है।
हालांकि इस बात को लेकर अभी तक संशय बरकरार था कि आखिर सिद्धार्थ की हत्या क्यों की गई? इस पर से पर्दा उठाया है उनकी हत्या के आरोपी कैब ड्राइवर सरफराज शेख ने। शेख ने पुलिस को बताया कि उसे तीन लोगों ने हत्या का कॉन्ट्रैक्ट दिया था।
सूत्रों के मुताबिक उसने ज्यादा कुछ तो नहीं बताया लेकिन यह जरूर बताया है कि उनमें से दो लोग HDFC में पहले काम कर चुके हैं और वह सिद्धार्थ की तरक्की और जल्दी हुए प्रमोशन्स से चिढ़े हुए थे। इसी वजह से सिद्धार्थ को मारना चाहते थे।
सिद्धार्थ का परिवार और उनके मित्र शुरुआत से दावा करते आए हैं कि सिद्धार्थ बेहद मृदुभाषी थे और उनका कभी किसी से कोई झगड़ा नहीं हुआ इसलिए अब पुलिस भी यह मानकर चल रही है कि उनकी हत्या व्यावसायिक दुश्मनी या ईर्ष्या के चलते हुई है।
परिवार के दावे से उलझी हत्या की गुत्थी
हत्या की गुत्थी तब ज्यादा उलझ गई थी जब सिद्धार्थ का मोबाइल गुमशुदगी के अगले दिन 6 सितंबर को कोपरखैराने इलाके में मिला और परिवार ने दावा किया कि सिद्धार्थ इससे पहले कभी वहां नहीं गए और ना ही वहां किसी को जानते थे। परिवार ने यह भी बताया कि सिद्धार्थ को कभी कोई धमकी नहीं मिली और ना ही हाल में किसी से झगड़ा हुआ था।
पुलिस सूत्रों के मुताबिक उन पर ऑफिस की पार्किंग में किसी धारदार हथियार से हमला हुआ था। उनके गायब होने के बाद से ही फोन ऑफ था और उनकी कार लावारिस हालत में नवी मुंबई में मिली थी। अफसर शेख को उस जगह ले गए थे, जहां उसने सिद्धार्थ की डेडबॉडी को फेंका था। इससे पहले शेख ने पुलिस को काफी छकाया था। आखिरकार सिद्धार्थ के डेडबॉडी कल्याण के हाजी मलंग एरिया से बरामद हुई।
कार में तीन लोग थे मौजूद
पुलिस के मुताबिक मलबार हिल में रहने वाले सिद्धार्थ को लोगों ने आखिरी बार बुधवार शाम कमला मिल्स कंपाउंड स्थित दफ्तर से करीब 8:30 बजे घर के लिए निकलते हुए देखा था लेकिन वह घर नहीं पहुंचे। जांच के दौरान सीसीटीवी फुटेज में यह सामने आया है कि अंतिम बार संघवी की कार में तीन और लोग मौजूद थे। कार जब बरामद हुई तो उसमें खून के धब्बे मिले थे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »