हाथरस केस: तफ्तीश में फर्जी रिश्तेदार का नक्सल कनेक्शन सामने आया

हाथरस। हाथरस केस में जारी तफ्तीश के बीच अब एक नया खुलासा हुआ है। इसके अनुसार हाथरस गैंगरेप पीड़िता के घर पर एक फर्जी महिला रिश्तेदार ने डेरा डाला हुआ था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अब इस फर्जी रिश्तेदार का नक्सल कनेक्शन सामने आया है जिसकी पुलिस जांच कर रही है। दरअसल, पिछले दिनों पीड़िता के परिवार में कथित महिला रिश्तेदार देखी गई। आरोप है कि खुद को युवती को भाभी बताने वाली यह महिला फर्जी रिश्तेदार बनकर घर पर रह रही थी और पीड़ित परिवार को बरगला रही थी।
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक महिला मध्य प्रदेश जबलपुर की रहने वाली है और अपना नाम कथित तौर पर Dr Rajkumari Bansal बताया। केवल दलित होने के नाते परिवार के लोगों को भरोसे में लेकर वह कई दिनों से यहां रह रही थी। महिला जबलपुर मेडिकल कॉलेज में खुद को प्रोफेसर बता रही थी। जब पुलिस को शक हुआ तो महिला चुपचाप वहां से गायब हो गई।
पीड़ित परिवार को बरगला रही थी महिला
रिपोर्ट्स का कहना है कि यह फर्जी रिश्तेदार परिवार को बता रही थी कि मीडिया में क्या बयान देना है और परिवार को लगातार गाइड कर रही थी। अब माना जा रहा है वह महिला संदिग्ध नक्सली है और उसका नक्सल कनेक्शन है। वह खुद को परिवार का रिश्तेदार बताकर मीडिया में सरकार के खिलाफ बयान भी दे रही थी। फिलहाल एसआईटी महिला की तलाश कर रही है।
16 सितंबर के बाद गांव में सक्रिय हुई महिला
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार संदिग्ध महिला वह 16 सितंबर से ही पीड़िता के गांव, यानी घटना के दो दिन बाद से ही सक्रिय हो गई थी। वह पीड़ित परिवार के साथ घर में रहकर वह परिवार के लोगों को रूप से भड़का रही थी। अब एसआइटी जल्द ही इसका खुलासा कर सकती है।
हाथरस में पीएफआई कनेक्शन भी आया था सामने
इससे पहले हाथरस केस में पीएफआई कनेक्शन भी सामने आ चुका है। सरकार की ओर से कहा गया था कि हाथरस में जातीय हिंसा फैलाने के लिए बाहर से पैसा आया और मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो मॉरिशस से 50 करोड़ रुपया भेजा गया था।
जांच एजेंसियां हाथरस कांड के बहाने सांप्रदायिक हिंसा भड़काने में एक वेबसाइट की भूमिका खंगाल रही हैं। आरोप है कि ‘जस्टिस फॉर हाथरस’ नाम से बनी इस वेबसाइट पर जाति-संबंधी हिंसा को भड़काने के लिए हाथरस की घटना से संबंधित फर्जी सूचनाएं दी गईं। हालांकि अब यह वेबसाइट इनएक्टिव हो गई है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *