हाथरस केस: CBI पहुंची, बूलगढ़ी में क्राइम सीन का मुआयना किया

हाथरस। उत्तर प्रदेश के चर्चित हाथरस कांड की जांच केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो CBI ने तेज कर दी है। CBI आज फॉरेंसिक टीम के साथ घटनास्थल बूलगढ़ी गांव पहुंची। 15 सदस्यों वाली CBI की टीम ने क्राइम सीन का मुआयना किया। साथ ही पीड़िता के भाई को भी क्राइम सीन पर लाया गया है। सूत्रों की माने तो CBI की कोशिश क्राइम सीन रिक्रिएट करके सबूत जुटाने की है।
इससे पहले CBI ने हाथरस के मुख्य आरोपी के खिलाफ गैंगरेप, हत्या का प्रयास और हत्या के साथ एससी-एसटी एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज की थी। सीबीआई की टीम से आने से पहले गांव में सुरक्षा कड़ी कर दी गई थी। गांव के अंदर और घटनास्थल के पास भारी संख्या में पुलिस फोर्स है। CBI ने इस केस और घटना से जुड़े सभी अहम कागजात और केस डायरी को भी खंगाला है।
कोर्ट से आरोपियों की रिमांड मांगेगी CBI
सूत्रों की माने तो CBI कोर्ट से चारों आरोपियों की कस्टडी की मांग करेगी और उनसे पूछताछ के आधार पर आगे की जांच करेगी। सीबीआई आरोपियों के साथ ही पीड़िता के परिवार से भी पूछताछ कर सकती है। इसके अलावा सीबीआई मामले की मुख्य गवाह पीड़िता की मां से मैजिस्ट्रेट के सामने बयान देने के लिए भी कह सकती है।
हाथरस में कब तक रहेगी CBI
हाथरस के एसपी विनीत जायसवाल की माने तो CBI टीम ने जांच के दौरान जुटाए गए सबूतों और केस डायरी सहित केस से जुड़े सभी जरूरी डॉक्युमेंट्स मांगे थे। वहीं एक सीनियर पुलिसकर्मी ने बताया कि जांच के लिए CBI के 15 अधिकारियों के अगले कुछ हफ्ते हाथरस में रहने की संभावना है।
रविवार शाम बूलागढ़ी पहुंची थी CBI
हाथरस कांड की जांच कर रही सीबीआई की टीम रविवार शाम चंदपा थाना क्षेत्र के बूलागढ़ी गांव पहुंची थी। CBI ने रविवार को ही इस मामले में केस दर्ज किया था। केस दर्ज करने से पहले यूपी सरकार ने सीबीआई को जांच की अनुशंसा भेजी थी।
हाथरस कांड की जांच के लिए एसआईटी भी गठित
हाथरस कांड की जांच के लिए यूपी सरकार पहले एसआईटी भी बना चुकी है, जिसे हाल ही में 10 और दिनों का वक्त दिया गया है। एसआईटी को होम सेक्रटरी भगवान स्वरूप की अध्यक्षता में बनाया गया था और इसे 7 दिन में रिपोर्ट देने के निर्देश दिए गए थे। बाद में एसआईटी ने 10 दिन का वक्त और मांगा था। इस पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपनी स्वीकृति दे दी थी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *