हरियाणा: निकाह के लिए दूल्हों को देना होगा घर में टॉइलट होने का ऐफिडेविट

Haryana: the beetle must be given to the toilets in the house For the marriage
हरियाणा: निकाह के लिए दूल्हों को देना होगा घर में टॉइलट होने का ऐफिडेविट

हाथिन और मेवात क्षेत्र के दूल्हों को अब अपने लिए दुल्हन लाने से पहले घर में टॉइलट होने का ऐफिडेविट बनवाना होगा। इस आधार पर ही उनके निकाह की रस्म पूरी हो सकेगी। साथ ही अगर शादी में शराब की मांग और डीजे लगाने की बात की तो काजी निकाह पढ़ने की रस्म से किनारा कर कर लेगें। यह निर्णय हाथिन और मेवात क्षेत्र के उलेमाओं ने आपसी सहमति के आधार पर लिया है।
सूत्रों के मुताबिक शुक्रवार को पलवल के ममोलका गांव में एक पंचायत बुलाई गई जिसमें हाथिन, पलवल और मेवात क्षेत्र के 700 से ज्यादा निवासियों ने भाग लिया। इस पंचायत में उलेमाओं ने घोषणा की कि दूल्हा पक्ष दुल्हनपक्ष को एक ऐफिडेविट देगा कि उसके घर में शौचालय है। इसी के बाद निकाह की रस्म पूरी कराई जाएगी।
ज्ञात हो कि इससे पहले 12 फरवरी को भी हमने अपने पाठकों को बताया था कि तीन राज्यों के 110 गांवों मौलवियों की तरफ से कहा गया था कि जिस घर में टॉइलट नहीं हो, दुल्हन पक्ष के लोग उस घर में अपनी बेटी न दें। इन राज्यों में पंजाब, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश शामिल हैं। ऐफिडेविट इसी दिशा में बढ़ाया गया एक और कदम है, ताकि लड़की पक्ष को यह सुनिश्चि हो सके कि दुल्हे पक्ष के घर में वाकई शौचालय बना हुआ है।
मौलाना मोहम्मद करीमी के अनुसार ‘घर में शौचालय न होने की स्थिति में हमारी बहन-बेटियां या तो अंधेरे में शौच के लिए जाती हैं या फिर ऐसी जगहों पर जहां कोई न हो। ऐसी स्थिति में उनकी सुरक्षा पर खतरा रहता है। साथ ही यह उनकी सेहत के लिए भी हानिकारक होता है। ऐसे में विवाह कराने के लिए दूल्हे के परिवार को दुल्हन के परिवार को ऐफिडेविट देकर यह भरोसा दिलाना होगा कि उनके घर में शौचालय है। नहीं तो निकाह नहीं होगा।’ मौलाना मोहम्मद करीमी उत्तर भारत जमीयत उलेमा-ए-हिंद के सर्वोच्छ पदाधिकारी हैं।
इतना ही नहीं, निकाह के दौरान शराब और डीजे म्यूजिक को वधु पक्ष पर अतिरिक्त भार मानते हुए इस पंचायत में अहम फैसला लिया गया है। इस फैसले के अनुसार, यदि शादी में शराब और डीजे की व्यवस्था की मांग की गई है तो काजी निकाह की रस्म पूरी नहीं कराएंगे।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *