आधा केरल बाढ़ से प्रभावित, मुख्यमंत्री ने किया प्रभावित जिलों का दौरा

तिरुवनंतपुरम। केरल के कई जिलों में मूसलाधार बारिश और बाढ़ के चलते अब तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है। केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने शनिवार को राज्य के बाढ़ प्रभावित जिलों का दौरा किया। आपको बता दें कि करीब आधा केरल बाढ़ से प्रभावित है और हजारों लोगों को अपना घर छोड़ना पड़ा है। सीएम ने खुद राहत कार्यों को संज्ञान में लिया है और त्वरित कार्यवाही के निर्देश दिए हैं। सीएम ने बाढ़ में मरने वालों के परिजनों के लिए 4 लाख और घर व जमीन गंवाने वालों के लिए 10 लाख रुपये के मुआवजे का ऐलान किया है।
बताया जा रहा है कि बारिश की वजह से इडुक्की बांध के पानी का स्तर काफी ज्यादा हो गया था। इस कारण 26 साल बाद इसे खोलना पड़ा। गुरुवार सुबह करीब 600 क्यूसेक पानी छोड़ा गया। सीएम विजयन खुद इस पर नजर रखे हैं। मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने बताया, ‘हमने आर्मी, नेवी, कोस्ट गार्ड और एनडीआरएफ से मदद मांगी है। तीन एनडीआरएफ की टीमें रेक्स्यू के लिए पहुंच चुकी हैं। 2 टीमें पहुंचने वाली हैं और 6 टीमों को कॉल किया गया है। नेहरू ट्रोफी बोट रेस को रद्द कर दिया गया है।’
आपदा नियंत्रण कक्ष के सूत्रों के अनुसार, इडुक्की में भूस्खलन में 10 लोगों, मलप्पुरम में 5, कन्नूर में 2 और वायनाड जिले में 1 की मौत हो गई। वायनाड, पलक्कड और कोझिकोड जिलों में एक-एक व्यक्ति लापता बताए जा रहे हैं। इडुक्की के अडीमाली शहर में एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत हो गई। पुलिस और स्थानीय लोगों ने मलबे से दो लोगों को जिंदा बाहर निकाला।
नेवी की ओर से दक्षिणी नवल कमांड ने वयानड में फंसे लोगों को बचाने के लिए चार टाइविंग टीमें और एक सी किंग हेलिकॉप्टर भेजा है। इसके अलावा भारतीय थल सेना की ओर से भी अयान्नकुलु, इदुक्की और वयानड में लगभग 75 जवानों की टीम भेजी गई है। दो और टीमें कोझिकोड और मलप्पुरम भेजी जा रही हैं। जल्द ही इंजिनियरिंग टास्क फोर्स की तीन टीमें भी भेजी जाएंगी।
रेलवे ट्रैक को भी नुकसान
भारी बारिश से कांजीकोड और वालायर के बीच रेलवे ट्रैक को भी नुकसान पहुंचा है। इस रूट पर रेल सेवाएं रोक दी गईं हैं। डीआरएम और अन्य अधिकारियों ने यहां का दौरा भी किया। ट्रैक को ठीक करने का काम जारी है। उम्मीद है कि जल्दी ही इसे शुरू किया जा सकेगा।
कोच्चि एयरपोर्ट के डूबने की आशंका
पेरियार नदी में बढ़ रहे जलस्तर को देखते हुए कोच्चि एयरपोर्ट के डूबने की आशंका है। गुरुवार को यहां कई घंटों के लिए फ्लाइट रोक दीं गईं। एयरपोर्ट नदी के पास है। शुक्रवार को भी यहां उड़ाने प्रभावित हो सकती हैं। इडुक्कीबांध खोलने से ही पेरियार नदी में पानी बढ़ा है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »