प्रयागराज में अतीक अहमद के घर पर चले एकसाथ आधा दर्जन बुलडोजर

प्रयागराज। यूपी में माफिया तत्वों के खिलाफ योगी आदित्यनाथ सरकार की सख्त कार्यवाही जारी है। प्रयागराज में बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद (ateeq ahmed) के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी कार्यवाही की गई है। अतीक अहमद के चकिया स्थित आवास पर सरकारी बुलडोजर चला है। इससे पहले भी अतीक अहमद की कई संपत्तियों को जब्त करने की ताबड़तोड़ कार्यवाही हुई थी।
प्रयागराज के चकिया स्थित अतीक अहमद के आवास को ढहा दिया गया है। प्रयागराज विकास प्राधिकरण की टीम ने बुलडोजर से निर्माण को ध्वस्त कर दिया। एक साथ आधा दर्जन बुलडोजर लगाकर इस घर को गिरा दिया गया। बताया जा रहा है कि प्रयागराज विकास प्राधिकरण से इस भवन का नक्शा पास नहीं है।
चकिया स्थित आवास पर पीडीए की कार्यवाही के दौरान कई थानों की पुलिस फोर्स मौजूद रही। इसके साथ ही पीडीए के जोनल अधिकारी भी वहां मौजूद रहे। योगी सरकार ने फूलपुर के पूर्व सांसद के खिलाफ सख्त ऐक्शन लिया है। अब तक अतीक अहमद की 300 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति को कुर्क या ध्वस्त किया गया है।
माफिया घोषित किए गए बाहुबली अतीक अहमद और उसके गैंग की अवैध और बेनामी संपत्तियों पर सरकारी बुलडोजर लगातार चल रहा है। 19 सितंबर को प्रयागराज प्रशासन ने पड़ोसी कौशाम्बी जिले के बॉर्डर पर सल्लाहपुर के हटवा गांव में अतीक के भाई पूर्व विधायक अशरफ के साले मोहम्मद जैद के आलीशान आशियाने को ध्वस्त किया था।
बंगलेनुमा बना यह आलीशान आशियाना 600 वर्ग गज में बनाया गया था। मकान के बाहर एक हजार गज जमीन खाली पड़ी थी। करोड़ों की लागत से बना तीन मंजिला मकान ध्वस्त करने के लिए प्रयागराज विकास प्राधिकरण के अधिकारियों के साथ, फोर्स भी मौजूद रही। तकरीबन आधा दर्जन बुलडोजर व जेसीबी मशीनों के जरिए अवैध निर्माण को ढहा दिया गया।
प्रयागराज विकास प्राधिकरण के जोनल अधिकारी सत शुक्ला के मुताबिक इस मकान का नक्शा पास नहीं कराया गया था। पहले इस अवैध निर्माण के खिलाफ कार्यवाही का नोटिस संबंधित लोगों को भेजा गया। इस नोटिस में वशीकरण की जानकारी दी गई थी। शनिवार को 600 वर्ग गज में बने अवैध निर्माण को ढहा दिया गया। प्रशासन ने जिस मकान को ध्वस्त किया, उसकी कीमत एक करोड़ से अधिक आंकी जा रही है।
अतीक की संपत्तियों पर ऐक्शन के साथ ही पुलिस उसके भाई अशरफ को गिरफ्तार कर चुकी है। तीन साल तक फरार रहने के दौरान अशरफ के ससुराल में ही रहने की पुलिस को कई बार सूचना मिली थी लेकिन पुलिस की छापेमारी के पहले ही उसे खबर लग जाती थी और वह फरार हो जाता था। अशरफ पर गिरफ्तारी के लिए एक लाख का इनाम भी घोषित किया गया था। पुलिस ने उसे तीन जुलाई को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। अशरफ के ससुराल वालों पर भी जमीन के धंधे में अवैध रुप से पैसे कमाने और अपराध से सम्पत्ति अर्जित करने का आरोप है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *