Hafiz Saeed के दोनों संगठनों को मिली पाकिस्‍तान सुप्रीम कोर्ट से हरी झंडी

इस्लामाबाद। मुंबई हमलों के मास्‍टरमाइंड Hafiz Saeed के दोनों संगठनों जमात-उद-दावा (जेयूडी) और फलह-ए-इंसानियत फाउंडेशन (एफआईएफ) से देश में अपनी गतिविधियां जारी रखने को कहा है।

सरकार द्वारा लाहौर उच्च न्यायालय के एक अंतरिम आदेश के खिलाफ दायर याचिका को दो सदस्यीय पीठ ने खारिज कर दिया। पांच अप्रैल को उच्च न्यायालय ने समूह को अपने कल्याण कार्य को जारी रखने की इजाजत दी थी। उच्च न्यायालय ने सरकार को दोनों समूहों के सामाजिक कार्यों में हस्तक्षेप करने से रोकते हुए उन्हें वैधानिक गतिविधियां जारी रखने की इजाजत दी थी।

इससे पहले पाकिस्तानी सरकार ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की प्रतिबंधित सूची में शामिल जेयूडी, एफआईएफ और दूसरे संगठनों को दान देने से कंपनियों और व्यक्तियों को रोक दिया था।

जेयूडी प्रमुख Hafiz Saeed ने सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले को ‘सच्चाई और न्याय की जीत’ करार दिया

अधिकारियों ने कहा कि जमात उद दावा के नेटवर्क में 300 मदरसे और स्कूल, अस्पताल, एक प्रकाशन गृह और एंबुलेंस सेवा शामिल है। दोनों समूहों में करीब 50 हजार स्वयंसेवक और सैकड़ों अन्य सवैतनिक कर्मचारी हैं। सईद को संरा सुरक्षा परिषद प्रस्ताव 1267 के तहत दिसंबर 2008 में सूचीबद्ध किया गया था। उसे पाकिस्तान में नजरबंदी से नवंबर में रिहा किया गया था।

हाफिज सईद के खुलेआम घूमने पर अमेरिका ने जताई थी चिंता
इससे पहले 6 सितंबर को अमेरिका के विदेश मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि अमेरिका भी भारत के समान इस बात पर चिंतित है कि पाकिस्तान मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को खुले आम घूमने दे रहा है जबकि आतंकवादी गतिविधियों में उसकी भूमिका को देखते हुए अमेरिका ने उस पर ईनाम रखा हुआ है।

अमेरिकी अधिकारी का यह बयान उस वक्त आया है जब एक दिन पहले अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने नव निर्वाचित प्रधानमंत्री इमरान खान से मुलाकात करके क्षेत्रीय शांति और स्थायित्व के लिए खतरा बने आतंकवादियों के खिलाफ निरंतर और निर्णायक कदम उठाने के लिए कहा है।

पोम्पिओ के साथ यात्रा कर रहे अधिकारी ने नयी दिल्ली में कहा,‘हमने आतंकवाद विरोध तथा पदनाम पर वार्ता के लिए पिछले वर्ष भारत के साथ बेहद करीब से काम किया है.’ उन्होंने कहा कि आतंकवाद का विरोध यकीनन भारत के साथ साझा हितों का एक मुद्दा है.

अधिकारी ने कहा,‘मुंबई हमले के 10 वर्ष पूरे होने वाले हैं. हम भी भारत के समान इस बात पर चिंतित हैं कि पाकिस्तान मुंबई हमले के मास्टरमाइंड Hafiz Saeed को खुलेआम घूमने दे रहा है जबकि आतंकवादी गतिविधियों में उसकी भूमिका को देखते हुए उस पर ईनाम है.’
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »