हाफिज सईद के आतंकवाद से संबंधों को पाकिस्‍तान की मौन स्‍वीकृति

Hafiz Saeed relations with terrorism Pakistan's the tacit approval
हाफिज सईद के आतंकवाद से संबंधों को पाकिस्‍तान की मौन स्‍वीकृति

इस्लामाबाद। हाफिज सईद के आतंकवाद से संबंधों को पाकिस्‍तान ने अपनी मौन स्‍वीकृति दे दी है। पाकिस्तान के पंजाब प्रांत की सरकार ने मुंबई आतंकी हमले के साजिशकर्ता और जमात उद दावा के सरगना हाफिज सईद को आतंकवाद निरोधक कानून के दायरे में लाकर उसके आतंकवाद से संबंध होने को मौन स्वीकृति दे दी है। उसे एग्जिट कंट्रोल लिस्ट में भी रखा गया है। पाकिस्तान इससे पहले भी आतंकी संगठनों पर कार्यवाही का दिखावा करता रहा है। हाफिज पर ताजा कार्यवाही भी पाकिस्तान का कोई नया पैंतरा हो सकती है। हालांकि यह कार्यवाही ऐसे वक्त हुई है जब आतंकी हमलों के बाद बौखलाया पाकिस्तान आतंकियों के खिलाफ सख्ती से कार्यवाही कर रहा है।
डॉन न्यूज़ की खबर के मुताबिक पंजाब सरकार ने सईद और उसके करीबी सहयोगी काजी काशिफ को आतंकवाद निरोधक कानून (एटीए) की चौथी अनुसूची में डाल दिया है। इस सूची में तीन अन्य लोगों अब्दुल्ला ओबैद, जफर इकबाल, अब्दुर रहमान आबिद के नाम भी शामिल किए गए हैं। सईद सहित 4 अन्य को उसकी पार्टी और राजनीतिक सहयोगियों के गुस्से और हंगामे के बीच 30 जनवरी को नजरबंद किया गया था।
सईद को 2008 में मुंबई में हुए आतंकी हमले के बाद भी नजरबंद किया गया था लेकिन 2009 में अदालत ने उसे रिहा कर दिया था। खबर के अनुसार गृह मंत्रालय ने इन पांच लोगों की पहचान जमात उद दावा और फलाह-ए-इंसानियत के सक्रिय सदस्य के रुप में की है। मंत्रालय ने आतंकवाद निरोधक विभाग को इन लोगों के खिलाफ आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं।
खबर के मुताबिक चौथी अनुसूची में सिर्फ नाम शामिल होना ही यह बताता है कि उस व्यक्ति का किसी न किसी तरह से आतंकवाद से संबंध है। इस सूची में शामिल लोगों को यात्रा प्रतिबंध और संपत्तियों की जांच का सामना करना पड़ सकता है। इस चौथी सूची के प्रावधान का उल्लंघन करने वाले को तीन साल की कैद और जुर्माना या फिर दोनों की सजा हो सकती है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *