गुजरात: घोड़े पर चलने की वजह से नहीं, महिला के साथ छेड़छाड़ के कारण हुई थी दलित युवक की हत्‍या

भावनगर। गुजरात के भावनगर में ढाई महीने पहले हुई दलित युवक की हत्या के मामले को पुलिस ने सुलझा लिया है। पुलिस ने बताया कि एक शादीशुदा महिला के साथ छेड़छाड़ की घटना के बाद उसके पति ने युवक को मौत के घाट उतार दिया था। आरोपी कोली समुदाय का है। इससे पहले बताया जा रहा था कि घोड़े से चलने की वजह से उच्च जाति के लोगों ने युवक की हत्या कर दी थी।
भावनगर पुलिस की एससी-एसटी सेल ने गत् 29 मार्च को हुए इस हत्याकांड की गुत्थी को सुलझाने का दावा किया है।
गौरतलब है कि पहले बताया जा रहा था कि यह मर्डर उच्च जाति के लोगों के द्वारा दलित युवक के घोड़ा खरीदने की वजह से अंजाम दिया गया है। मृतक प्रदीप राठौर (21) के पिता ने घोड़े से चलने के शौक की वजह को मर्डर का कारण करार देते हुए उच्च जाति के कुछ लोगों का नाम भी दिया था।
भावनगर के उमराला तहसील के टिंबी गांव में हुई इस घटना के बाद से तनाव है। पुलिस ने मामले की गहन छानबीन की और टिंबी, पिपराली गांव के 100 से अधिक लोगों के मोबाइल टॉवर लोकेशन की स्क्रूटनी के बाद मर्डर की उस थिअरी को खारिज कर दिया। पुलिस ने हत्याकांड में अहमदाबाद जिले के धांधुका के पास पडाना गांव के निवासी मुन्ना थरेसा को गिरफ्तार कर लिया है।
एससी/एसटी सेल के डीएसपी पी. पी. पिरोजिया ने जानकारी देते हुए बताया, ‘आरोपी मुन्ना थरेसा पिपराली गांव में रहता था और किसान भोथा लाथिया के साथ साझेदारी में खेती करता था। वह अपनी मां और पत्नी के साथ रहता था। वहीं मृतक प्रदीप गांव और आसपास के इलाके में लड़कियों को छेड़ने के लिए बदनाम था। उसने मुन्ना की पत्नी पर भी डोरे डालने शुरू कर दिए और शारीरिक संबंध बनाने की बात भी कही। मुन्ना इस बात को लेकर प्रदीप को चेतावनी भी दे चुका था।’
उन्होंने बताया, ’29 मार्च को प्रदीप घोड़े पर बैठ कर मुन्ना के घर की तरफ जाने लगा। उस वक्त खेतों में काम में लगे मुन्ना ने उसे रोकने की कोशिश की, लेकिन दोनों में कुछ झड़प हो गई। इसी दौरान मुन्ना ने हाथ में लिए हंसिए (धारदार हथियार) से प्रदीप का गला रेत दिया। वारदात के बाद मुन्ना अपनी पत्नी और मां को लेकर उसी रात अपने गांव लौट गया।’
घटना की जांच में लगी पुलिस ने 100 से अधिक लोगों का मोबाइल टॉवर लोकेशन चेक किया, जिनमें दरबार समुदाय से आने वाले उच्च जातियों और मृतक के पिता के द्वारा नामित आरोपियों का डिटेल इन्वेस्टिगेशन भी शामिल था। केवल मुन्ना के मोबाइल का लोकेशन ही वारदात की जगह पर दिखा रहा था। पुलिस ने संदेह के आधार पर मुन्ना को उठाया और सख्ती से पूछताछ में आरोपी ने जुर्म कबूल कर लिया।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »