राजीव एकेडमी में स्टॉक मार्केट अवेयरनेस पर हुआ गेस्ट लेक्चर

मथुरा। राजीव एकेडमी फॉर टेक्नोलॉजी एण्ड मैनेजमेंट में सोमवार को एमबीए तृतीय सेमेस्टर के विद्यार्थियों के लिए आनलाइन गेस्ट लेक्चर का आयोजन किया गया। सिक्यूरिटी एण्ड एक्सचेंज बोर्ड आफ इण्डिया (SEBI) के अधिकारी शमसेर सिंह ने अपने व्याख्यान में छात्र-छात्राओं को आधुनिक शेयर बाजार, स्टॉक एक्सचेंज और विभिन्न प्रकार के निवेश व बैंक खातों से संबंधित जानकारी दी।

राजीव एकेडमी में स्टॉक मार्केट अवेयरनेस पर हुआ गेस्ट लेक्चर Guest lecture on stock market awareness at Rajiv Academy
राजीव एकेडमी में स्टॉक मार्केट अवेयरनेस पर हुआ गेस्ट लेक्चर : सेबी के अधिकारी शमसेर सिंह ने द‍िया व्याख्यान 

सेबी के अधिकारी शमसेर सिंह ने छात्र-छात्राओं को बचत और निवेश को आज के समय की सबसे बड़ी जरूरत बताया। उन्होंने कहा कि हम बचत कर धन को इस प्रकार रखें कि हमें बिना मूलधन खर्च किये भी कुछ न कुछ प्राप्त होता रहे। साथ ही हमारा मूलधन भी सुरक्षित रहे। उन्होंने कहा कि शेयर बाजार किसी सूचीबद्ध कम्पनी में हिस्सेदारी खरीदने और बेचने की जगह है। भारत में बाम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) दो प्रमुख शेयर बाजार हैं। इन बाजारों में लिस्टेड कम्पनियों के माध्यम से शेयर बेचे और खरीदे जाते हैं। इन बाजारों में बांड म्युचुअल फण्ड और डेरेवेटिव का भी व्यापार होता है। यह कार्य ब्रोकर (दलालों) के माध्यम से किया जाता है। दलाल सिर्फ अपना कमीशन चार्ज करते हैं।

श्री सिंह ने बताया कि सूचीबद्ध कम्पनियों के शेयरों का मूल्य उनकी लाभ कमाने की क्षमता के अनुसार घटता-बढ़ता रहता है। शेयर बाजार का नियंत्रण भारतीय प्रतिभूति एवं विनियम बोर्ड (सेबी) के हाथ में होता है। प्रत्येक तिमाही या छमाही या सालाना आधार पर कम्पनियां मुनाफा कमाने पर हिस्साधारकों को लाभांश देती हैं। इन गतिविधियों की जानकारी ऑनलाइन भी की जा सकती है।

छात्र-छात्राओं के प्रश्नों का उत्तर देते हुए उन्होंने बताया कि शेयरों में उतार-चढ़ाव आता रहता है। इसकी मुख्य वजह कम्पनी के कामकाज, आर्डर मिलने या छिन जाने, नतीजे बेहतर रहने, मुनाफा बढ़ने-घटने जैसी बातें हैं। ऐसी स्थितियों में रोज कुछ न कुछ प्रभाव पड़ता है और उसी से उस कम्पनी का मूल्यांकन होता है। इसी के कारण मांग घटने-बढ़ने से उसके शेयरों की कीमतों में उतार चढ़ाव आता रहता है। यदि कोई कम्पनी सेबी की शर्तों का पालन नहीं करती तो उसे डीलिस्ट कर दिया जाता है। श्री सिंह ने छात्र-छात्राओं को शेयर बाजार में निवेश के तौर-तरीकों की भी जानकारी दी।

आर.के. एजूकेशन हब के अध्यक्ष डॉ. रामकिशोर अगव्राल ने कहा कि आज एम.बी.ए. पास छात्र-छात्राओं के लिए शेयर बाजार करिअर बनाने का बेहतर विकल्प है। संस्थान के निदेशक डॉ. अमर कुमार सक्सेना ने छात्र-छात्राओं को आनलाइन गेस्ट लेक्चर्स का अधिकाधिक लाभ उठाने का आह्वान किया।
-Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *