Air India की 100 फीसदी हिस्सेदारी बेचेगी सरकार

नई द‍िल्ली। केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने आज लोकसभा में कहा है कि सरकार Air India की 100 फीसदी हिस्सेदारी बेचेगी। वित्तीय संकट से गुजर रही Air India को सरकार ने बेचने की तैयारी कर ली है। इस मामले में केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा है कि सरकार एयर इंडिया की 100 फीसदी हिस्सेदारी बेचेगी।

हरदीप पुरी इससे पहले राज्यसभा में कह चुके हैं कि एयर इंडिया का निजीकरण नहीं होने की स्थिति में इसे बंद करना होगा। उन्होंने हालांकि कहा कि सभी कर्मचारियों के लिए एक सही सौदा तय किया जाएगा। पुरी ने कहा, “मैं उस हद तक जाऊंगा और यह कहूंगा।” इसके बाद पुरी ने कहा कि निजीकरण नहीं होने पर एयरलाइन को बंद कर दिया जाएगा।

सरकार इस सरकारी कंपनी में अपनी पूरी हिस्सेदारी बेचने के लिए बोली दस्तावेज तैयार कर रही है और विनिवेश प्रक्रिया को पूरा करने की समय सीमा 31 मार्च निर्धारित की गई है। पहले के प्रयास में मोदी सरकार ने मई 2018 में अपनी 76 फीसदी हिस्सेदारी बेचने के लिए एक्सप्रेशन ऑफ इंट्रेस्ट (ईओआई) आमंत्रित किया था लेकिन बोली के पहले चरण में एक भी निजी पार्टी ने दिलचस्पी नहीं दिखाई।

एयर इंडिया पर कुल कितना कर्ज

कंपनी पर कुल 58,000 करोड़ रुपये का कर्ज का बोझ है। एयर इंडिया ने पिछले वित्त वर्ष में लगभग 4600 करोड़ रुपये का ऑपरेटिंग नुकसान दर्ज किया। तेल की ऊंची कीमतों और विदेशी मुद्रा के नुकसान के कारण ऐसा हुआ। पिछले साल भी सरकार एयर इंडिया को बेचना चाहती थी, लेकिन कच्चे तेल की कीमतों में अस्थिरता के कारण सरकार ने इसे रोक दिया था।
अब सरकार इसे बेचने के लिए एक बार फिर सक्रिय हुई है। कंपनी की पूरी हिस्सेदारी बेचने का प्रस्ताव नीति आयोग ने दिया था।

कर्मचारियों के हितों का रखा जाएगा ध्यान

बीते 27 नवंबर को केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने राज्यसभा में कहा था कि हजारों करोड़ रुपए के कर्ज के बोझ तले दबी सरकारी एयरलाइन एयर इंडिया का निजीकरण नहीं हो पाता है तो सरकार इसे पूरी तरह से बंद कर देगी।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सरकार एयर इंडिया के सभी कर्मचारियों के हितों का ध्यान रखेगी। उन्होंने कहा था कि एयर इंडिया के निजीकरण या फिर बंद होने से किसी भी कर्मचारी का अहित नहीं होने दिया जाएगा।

-Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *