Sexual harassment मामलों को देखेेेेगा सरकार द्वारा गठित ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स

#MeToo Effect ही है दफ्तर में Sexual harassment रोकने को का गठन

नई दिल्‍ली। सरकार ने कार्यस्थल पर Sexual harassment के मामलों से निपटने और इसे रोकने के लिए कानूनी एवं संस्थागत ढांचों को मजबूती देने के वास्ते गृहमंत्री राजनाथ सिंह के नेतृत्व में एक मंत्री समूह (जीओएम) का गठन किया है।

ये #MeToo Effect ही है कि केंद्र सरकार ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह की अगुवाई में मंत्री समूह का गठन कर दिया है।

गौरतलब है कि #MeToo अभियान के तहत कई लोगों के फंसने के बाद अब मोदी सरकार एक्शन में आ गई है। ऐसे मामलों को गंभीरता से लेते हुए मोदी सरकार ने ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स (GOM) का गठन किया है।

इस समिति का जिम्मा गृहमंत्री राजनाथ सिंह को सौंपा गया है। साथ ही राजनाथ सिंह के अलावा मेनका गांधी, निर्मला सीतारमण और नितिन गडकरी भी समिति की अगुवाई करेंगे।

गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि मंत्री समूह के सदस्यों में सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी शामिल हैं।

मंत्री समूह कार्यस्थल पर महिलाओं के यौन उत्पीड़न से संबंधित मामलों से निपटने के लिए मौजूदा कानूनी और संस्थागत ढांचों का परीक्षण करेगा। अधिकारी ने बताया कि कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न से संबंधित मुद्दों के समाधान के लिए मंत्री समूह मौजूदा प्रावधानों के प्रभावी क्रियान्वयन और मौजूदा कानूनी तथा संस्थागत ढांचों को मजबूत बनाने के लिए जरूरी कार्रवाई की सिफारिश करेगा।

मंत्री समूह का गठन #MeToo आंदोलन के मद्देनजर किया गया है जिसके तहत कई महिलाओं ने कार्यस्थल पर अपना यौन उत्पीड़न करने वालों का सार्वजनिक रूप से नाम लिया है। पूर्व महिला सहकर्मियों द्वारा कार्यस्थल पर अपने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाए जाने के कारण पूर्व संपादक एम जे अकबर को विदेश राज्यमंत्री के पद से इस्तीफा देना पड़ा था।

मंत्री समूह कार्यस्थल पर महिलाओं के यौन उत्पीड़न से संबंधित मामलों से निपटने के लिए मौजूदा कानूनी और संस्थागत ढांचों का परीक्षण करेगा।

अधिकारी ने बताया कि कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न से संबंधित मुद्दों के समाधान के लिए मंत्री समूह मौजूदा प्रावधानों के प्रभावी क्रियान्वयन और मौजूदा कानूनी तथा संस्थागत ढांचों को मजबूत बनाने के लिए जरूरी कार्रवाई की सिफारिश करेगा।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »