हवाई अडडों के खेल में फिज़ूल खर्च कर रही है Government

आगरा। एक तरफ Government जेवर में करोडों खर्च करने को अमादा है और दूसरी तरफ हिंडन के सिविल एन्क्लेव को लेकर फिजूल खर्च क्‍यों ? अगर हिंडन डेवेलोप करना है तो जेवर क्यूँ? सरकार के पास खर्च करने को पैसा नहीं है।

PPP मॉडल पर जेवर के लिये इन्वेस्टर नहीं है। हिंडन पर उत्तर प्रदेश सरकार का g.o. संग्लन।

http://shasanadesh.up.nic.in/GO/ViewGOPDF_list_user.aspx?id1=NzcjNiMxIzIwMTg=

इस प्रकार के खर्च का इंटरनेशनल कम्‍यूनिटी खासकर एनआरआई पर प्रतिकूल असर पडेगा।
एक ओर सहायता के लिये डव्‍लू एचओ की लाइन मेंलगे हैं, वहीं दूसरी ओर हवाई अडडों के खेल में डटी हुई है सरकार।

दूसरी तरफ आगरा कि जरुरत को अनदेखा कर भारत सरकार और प्रदेश सरकार हवाई अड्डे और उड़न के नाम पर करोड़ों रूपए खर्च कर रही है। सिविल सोसाइटी ऑफ़ आगरा इस अनियमितता का विरोध करती है।
आगरा के ताज महल का महत्‍व जगजाहिर है, दुनिया में नामी ब्रांड, लोग, हर इम्पोर्टेन्ट कम्पटीशन कि ट्रोफी अदि , ताज के साये में आ कर फोटो खीचना कहते हैं। फिर भी सरकार आगरा कि हवाई कनेक्टिविटी के लिये कॉस्मेटिक कार्य कर रही है।
श्री मोदी ने २०१३ में आगरा और टूरिज्म के महत्त्व को जाना था और उस समय कि सरकारों पर तंज किया था। इलेक्शन जीतने के बाद सब पुराने धरे पर आ गयी है।

सिविल सोसाइटी ऑफ़ आगरा Government से अनुरोध करती है, विश्व प्रसिद्ध शहर के विकास पर भी ध्यान दे और सही दिशा में विकास करवाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »