सरकार का फैसला, Kashmir में सिर्फ दो दिन होगा सुरक्षाबलों का मूवमेंट

नई दिल्‍ली। Kashmir में सुरक्षाबलों पर फिदायीन हमलों की आशंका के चलते सरकार ने बड़ा फैसला लिया है जिसमें Kashmir नेशनल हाईवे पर हफ्ते में दो दिन सुरक्षाबलों का मूवमेंट होगा और इस दौरान निजी वाहनों की मूवमेंट पर प्रतिबंध रहेगा।

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों की मूवमेंट पर सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। नेशनल हाईवे पर हफ्ते में दो दिन सुरक्षाबलों का मूवमेंट होगा। इन दो दिनों के दौरान सार्वजनिक और निजी वाहन पूरी तरह प्रतिबंधित रहेंगे। किसी भी आपात में जिला प्रशासन एवं पुलिस मिलकर कर्फ्यू के दौरान अपनाए जाने वाले नियमों का पालन करने की अनुमति देगा। सुरक्षाबलों पर पुलवामा जैसा हमला होने की आशंका के मद्देनजर यह फैसला लिया गया है।

सुबह 4 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक Kashmir हाईवे सिर्फ सुरक्षाबलों के काफिलों के लिए खुलेगा। 31 मई 2019 तक यह आदेश पूरी तरह से प्रभावी रहेगा।

बारामुला से श्रीनगर और इसके बाद काजीगुंड, बनिहाल, रामबन और उधमपुर तक वाहनों की मूवमेंट पर प्रतिबंध रहेगा। इससे पहले केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भी ऐसा ही आदेश दिया था। बावजूद इसके 30 मार्च को पुलवामा जैसा हमला दोहराने की कोशिश की गई। 14 फरवरी 2019 को पुलवामा में सीआरपीएफ की कानवाय पर आत्मघाती हमला हुआ था। इसमें सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे।

सरकार ने यह एक बड़ा फैसला किया है। सुरक्षा एजेंसियां सुरक्षाबलों की कानवाय की मूवमेंट के दौरान पहले जारी आदेश को पूरी तरह से फालो नहीं कर पाई। इस वजह से सरकार को यह आदेश जारी करना पड़ा है। क्योंकि 30 मार्च को फिर से पुलवामा जैसा हमला करने की कोशिश की गई। इसमें कहीं न कहीं बड़ी चूक माना गया है। जिस पर सरकार ने यह फैसला लिया। रियासत में 11 अप्रैल को पहले चरण के लोकसभा चुनाव का मतदान होना है।

आतंकियों की नजर सुरक्षाबलों की कानवाय पर
Kashmir मेें लगातार सूचनाएं आ रही हैं कि आतंकी संगठन पुलवामा जैसा हमला करने की फिराक में हैं। खासकर अब जबकि हर रोज चुनाव ड्यूटी को लेकर सुरक्षाबलों की मूवमेंट हो रही है, तो यह और भी चुनौतीपूर्ण हो चुका है।

इसलिए अब सरकार ने यह फैसला लिया है। सूत्रों का कहना है कि रामबन, पुलवामा, श्रीनगर, बारामुला, कुलगाम, उधमपुर जिलों की संबंधित जिलों की पुलिस सुरक्षाबलों के काफिलों के दौरान हाइवे पर तैनात रहेगी। ताकि किसी वाहन को घुसने न दिया जाए।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »