आज फिर मजबूत हुआ सोना, चांदी की कीमतों में भी तेजी

नई दिल्‍ली। सोमवार को भारी गिरावट झेलने के बाद आज सोना थोड़ा मजबूत होकर खुला है। सोने की कीमतों में आज 140 रुपये की बढ़त देखी जा रही है। सोमवार को सोना 45,949 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर बंद हुआ था, जो आज मंगलवार को 46,089 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर खुला। इसके बाद सोने तेजी से नीचे गिरता चला गया। वहीं दूसरी तरफ चांदी की कीमत में भी तेजी देखने को मिल रही है। सोमवार को 62,637 रुपये प्रति किलो के स्तर पर बंद हुई चांदी आज 456 रुपये की बढ़त के साथ 63,093 रुपये प्रति किलो के स्तर पर खुली है।
सोमवार को क्या रहा सोने का हाल?
बहुमूल्य धातुओं की अंतर्राष्ट्रीय कीमतों में गिरावट के अनुरूप दिल्ली सर्राफा बाजार में सोमवार को सोना 317 रुपये की गिरावट के साथ 45,391 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ। एचडीएफसी सिक्योरिटीज ने यह जानकारी दी। सोने का पिछला बंद भाव 45,708 रुपये प्रति 10 ग्राम था। चांदी की कीमत भी 1,128 रुपये लुढ़ककर 62,572 रुपये प्रति किलोग्राम रह गई। इसका पिछला बंद भाव 63,700 रुपये प्रति किलो था।
10 हजार रुपये से भी अधिक सस्ता हुआ सोना
भले ही आज सोने की कीमतों में बढ़त देखी जा रही है लेकिन लंबी अवधि में देखें तो सोने की कीमतों में भारी गिरावट देखी आई है। अपने ऑल टाइम हाई से सोना 10 हजार रुपये से भी अधिक सस्ता हो चुका है। पिछले साल अगस्त में सोना 56,200 रुपये के उच्चतम स्तर तक जा पहुंचा था और अभी सोना 46,089 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर के करीब पहुंच गया है। यानी सोने की कीमत अब तक 10 हजार रुपये से भी अधिक गिर चुकी है।
पिछले सालों में सोने ने दिया कितना रिटर्न?
अगर बात सोने की करें तो पिछले साल सोने ने 28 फीसदी का रिटर्न दिया है। उससे पिछले साल भी सोने का रिटर्न करीब 25 फीसदी रहा था। अगर आप लॉन्ग टर्म के लिए निवेश कर रहे हैं तो सोना अभी भी निवेश के लिए बेहद सुरक्षित और अच्छा विकल्प है, जिसमें शानदार रिटर्न मिलता है। पिछले सालों में सोने से मिला रिटर्न आपके सामने है, जो दिखाता है कि निवेश करने से फायदा ही है।
कोरोना काल में सोना बना वरदान
सोना गहरे संकट में काम आने वाली संपत्ति है, मौजूदा कठिन वैश्विक परिस्थितियों में यह धारणा एक बार फिर सही साबित हो रही है। कोविड-19 महामारी और भू-राजनीतिक संकट के बीच सोना एक बार फिर रिकॉर्ड बना रहा है और अन्य संपत्तियों की तुलना में निवेशकों के लिए निवेश का बेहतर विकल्प साबित हुआ है। विश्लेषकों का मानना है कि उतार-चढ़ाव के बीच सोना अभी कम से कम एक-डेढ़ साल तक ऊंचे स्तर पर बना रहेगा। दिल्ली बुलियन एंड ज्वेलर्स वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष विमल गोयल का मानना है कि कम एक साल तक सोना उच्चस्तर पर रही रहेगा। वह कहते हैं कि संकट के इस समय सोना निवेशकों के लिए ‘वरदान’ है। गोयल मानते हैं कि दिवाली के आसपास सोने में 10 से 15 प्रतिशत तक का उछाल आ सकता है।
मुसीबत की घड़ी में हमेशा बढ़ी है सोने की चमक!
सोना हमेशा ही मुसीबत की घड़ी में खूब चमका है। 1979 में कई युद्ध हुए और उस साल सोना करीब 120 फीसदी उछला था। अभी हाल ही में 2014 में सीरिया पर अमेरिका का खतरा मंडरा रहा था तो भी सोने के दाम आसमान छूने लगे थे। हालांकि, बाद में यह अपने पुराने स्तर पर आ गया। जब ईरान से अमेरिका का तनाव बढ़ा या फिर जब चीन-अमेरिका के बीच ट्रेड वॉर की स्थिति बनी, तब भी सोने की कीमत बढ़ी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *