होली से पहले सोने और चांदी की कीमतों में गिरावट

नई दिल्‍ली। मंगलवार को भी सोने और चांदी की कीमतों में गिरावट देखने को मिल रही है। MCX पर अप्रैल डिलीवरी वाला सोना मंगलवार को 119 रुपये की गिरावट के साथ खुला लेकिन दिन चढ़ने के साथ इसमें सुधार हुआ। दोपहर 12 बजे यह 67 रुपये यानी 0.15 फीसदी की गिरावट के साथ 44838 रुपये पर ट्रेड कर रहा था। सुबह के सत्र में इसने 44776 रुपये का न्यूनतम और 44905 रुपये का अधिकतम स्तर छू लिया। जून डिलीवरी वाला सोना भी 13 रुपये की मामूली गिरावट के साथ 45197 रुपये पर ट्रेड कर रहा था। मई डिलीवरी वाली चांदी 117 रुपये की गिरावट के साथ 66214 रुपये प्रति किलो पर ट्रेड कर रही थी।
सर्राफा कीमतों में गिरावट
सोमवार को फिर से सोने-चांदी की कीमतों में गिरावट देखने को मिली। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के अनुसार दिल्ली के सर्राफा बाजार में सोना 302 रुपये सस्ता हुआ जिसके बाद उसकी कीमत 44,269 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गई। पिछले सत्र में सोना 44,571 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। वहीं दूसरी ओर आज चांदी की कीमतों में 1533 रुपये की भारी गिरावट आई है, जिसके बाद चांदी 65,319 रुपये प्रति किलो के स्तर पर आ चुकी है। पिछले सत्र में चांदी 66,852 रुपये प्रति किलो के स्तर बंद हुई थी।
डॉलर की मजबूती का असर
यूएस ट्रेजरी यील्ड में तेजी और डॉलर के मजबूत होने से एक बार फिर सोने की कीमतों पर दबाव देखने के मिल रहा है। सोने की कीमतों में कई दिन के तेजी के बाद आज फिर गिरावट आई। MCX पर अप्रैल डिलीवरी वाला सोना आज 23 रुपये की गिरावट के साथ खुला। सुबह साढ़े 10 बजे यह 67 रुपये की गिरावट के साथ 44884 रुपये पर ट्रेड कर रहा था। सुबह के सत्र में इसने 44830 रुपये का न्यूनतम और 44961 रुपये का अधिकतम स्तर छू लिया। जून डिलीवरी वाला सोना भी 96 रुपये की गिरावट के साथ 45213 रुपये पर ट्रेड कर रहा था। मई डिलीवरी वाली चांदी 501 रुपये की गिरावट के साथ 67246 रुपये प्रति किलो पर ट्रेड कर रही थी।
पिछले हफ्ते आई तेजी
शुक्रवार को MCX पर सोना 57 रुपये की तेजी के साथ 45008 रुपये प्रति 10 ग्राम के भाव पर बंद हुआ। अमेरिका में ट्रेजरी यील्ड में तेजी और डॉलर के फिर से मजबूत होने से इस हफ्ते सोने एक रेंज में संघर्ष करता नजर आया। हालांकि साप्ताहिक आधार पर इसमें 250 रुपये प्रति 10 ग्राम की मामूली तेजी आई। शुक्रवार को चांदी 294 रुपये की गिरावट के साथ 67453 रुपये बंद हुआ। पिछले साल अगस्त में सोना 56200 रुपये प्रति 10 ग्राम के रेकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया था लेकिन उसके बाद से इसमें 11,000 रुपये से अधिक की गिरावट आ चुकी है।
आगे कैसा रहेगा हाल
टॉप ग्लोबल वेल्थ मैनेजर क्रेडिट सुइस के मुताबिक अमेरिका में ट्रेजरी यील्ड में तेजी और डॉलर के फिर से मजबूत होने से सोने की कीमतों में आगे गिरावट आ सकती है। उसका कहना है कि इकनॉमिक ग्रोथ की उम्मीद बढ़ने से सोना अपनी चमक खो रहा है। हाल के हफ्तों में यूएस ट्रेजरी यील्ड में तेजी और अमेरिकी डॉलर के मजबूत होने से भी सोने की कीमत प्रभावित हुई। वैक्सीनेशन में तेजी और अतिरिक्त फिस्कल स्टीम्युलस से निवेशकों की जोखिम लेने की भूख बढ़ी है। यही वजह है कि सोने के निवेशक सतर्क रुख अपना रहे हैं जिससे एक्सचेंजेज ट्रेडेड फंड से तेजी से आउटफ्लो हो रहा है।
कोरोना के बढ़ते मामले
इस महीने की शुरुआत में सोने 44150 रुपये तक पहुंच गया था जो एक साल में इसका न्यूनतम स्तर है। इससे सोने की मांग ने जोर पकड़ा था। इस साल कीमतें सपाट रहने से डीलरों ने आधिकारिक घरेलू कीमतों पर 6 डॉलर प्रति औंस का प्रीमियम वसूला। देश में सोने की कीमतों में 10.75 फीसदी इम्पोर्ट ड्यूटी और 3 फीसदी जीएसटी लगता है। देश में कोरोनावायरस के मामले करीब 4 महीने के उच्चतम स्तर पर पहुंच गए हैं जिससे एक बार फिर लॉकडाउन की आशंका पैदा हो गई है। मुंबई के एक डीलर ने रॉयटर्स से कहा कि ज्वेलर्स कम खरीद कर रहे हैं। ऐसी आशंका है कि देश में कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों से दुकानों और मॉल्स पर पाबंदी लगाई जा सकती है।
आयात में कमी
सोने का आयात चालू वित्त वर्ष 2020-21 के पहले 11 महीनों (अप्रैल-फरवरी) में 3.3 प्रतिशत घटकर 26.11 अरब डॉलर रह गया। वाणिज्य मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों से यह जानकारी मिली है। उल्लेखनीय है कि सोने का आयात देश के चालू खाते के घाटे (कैड) को प्रभावित करता है। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में पीली धातु का आयात 27 अरब डॉलर रहा था। आंकड़ों के अनुसार सोने के आयात में कमी से देश के व्यापार घाटे को कम करने में मदद मिली है। चालू वित्त वर्ष के पहले 11 माह में व्यापार घाटा कम होकर 84.62 अरब डॉलर रह गया, जो एक साल पहले इसी अवधि में 151.37 अरब डॉलर रहा था।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *