भगवान ना करें कि किसी को पाकिस्तान जैसा पड़ोसी मिले: राजनाथ

श्रीनगर। आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद बौखलाए पाकिस्तान पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने करारा हमला बोला है। सिंह ने दो टूक कहा कि सबसे बड़ी आशंका हमें हमारे पड़ोसी के बारे में ही रहती है।
यही नहीं, राजनाथ ने यहां तक कहा कि भगवान ना करें कि किसी को ऐसा (पाकिस्तान जैसा) पड़ोसी मिले।
बता दें कि बौखलाए पाक ने बुधवार को भारत से राजनियक रिश्तों में कटौती करने, द्विपक्षीय व्यापार निलंबित करने के साथ-साथ आर्टिकल 370 को हटाए जाने का मामला संयुक्त राष्ट्र में उठाने का फैसला किया है।
इस मामले में प्रतिक्रिया देते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, ‘सबसे बड़ी आशंका तो हमें हमारे पड़ोसी के बारे में रहती है। समस्या यह है कि आप दोस्त बदल सकते हैं लेकिन पड़ोसी का चुनाव आपके हाथ में नहीं होता है। और जैसा पड़ोसी (पाक) हमारे बगल में बैठा है, परमात्मा करे किसी को ऐसा पड़ोसी ना मिले।’
भारत ने दिया करारा जवाब
उधर, पाकिस्तान ने बौखलाहट में भारत के साथ व्यापारिक एवं राजनयिक रिश्तों को लेकर जो ऐलान किए, भारत ने उनका करारा जवाब दिया है। भारत ने पाकिस्तान की इमरान सरकार के एकतरफा फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि पाकिस्तान बिना उचित और पर्याप्त तथ्य के चीख-चिल्ला रहा है ताकि अंतर्राष्ट्रीय बिरादरी का ध्यान आकर्षित किया जा सके।
पाक पर भारत का आरोप
पाकिस्तान ने बुधवार को भारत से राजनयिक रिश्तों में कटौती करने, द्विपक्षीय व्यापार निलंबित करने के साथ-साथ आर्टिकल 370 को हटाए जाने का मामला संयुक्त राष्ट्र में उठाने का फैसला किया है। भारत सरकार ने कहा कि आर्टिकल 370 हटने से जम्मू-कश्मीर को लोगों का अंसतोष दूर किया जा सकता है। पाकिस्तान इसी से घबराकर चीख-चिल्लाहट मचा रहा है क्योंकि वह कश्मीरियों की संवेदनाओं का इस्तेमाल सीमा पार से यहां फैलाए गए आतंकवाद को न्यायोचित ठहराने के लिए करता है।
‘पाकिस्तान कभी सफल नहीं होगा’
विदेश मंत्रालय ने बयान में कहा, ‘पाकिस्तान कश्मीर पर अंतरराष्ट्रीय समुदाय की सहानुभूति जुटाने के प्रयास में जो शोर मचा रहा है, उसमें वह कभी सफल नहीं हो सकेगा। आर्टिकल 370 को लेकर उठाए गए हालिया कदम भारत के पूर्णतः आंतिरक मामले से जुड़े हैं। हमारा संविधान कल भी सर्वोपरि था, आज भी है और आगे भी रहेगा।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *