गोवा मुक्ति का संग्राम ऐसी अमर ज्योति है, जो अटल रही है: पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को गोवा पहुंचे। गोवा मुक्ति दिवस के अवसर पर उन्होंने पुनर्निमित फोर्ट अगुआड़ा कारागार संग्रहालय, गोवा चिकित्सा महाविद्यालय में सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक, न्यू साउथ गोवा जिला अस्पताल, मोपा हवाई अड्डे पर विमानन कौशल विकास केंद्र और डावोरलिम-नावेलिम, मडगांव में गैस इंसुलेटेड उपकेंद्र का उद्घाटन किया।

उन्होंने कहा कि गोवा की धरती को, गोवा के समंदर को प्रकृति का अद्भुत वरदान मिला हुआ है। आज सभी गोवा के लोगों का ये जोश, गोवा की हवाओं में मुक्ति के गौरव को और बढ़ा रहा है। आज आपके चेहरों पर गोवा के गौरवशाली इतिहास का गर्व देखकर मैं भी आपके जितना ही खुश हूं। आनंद में हूं। मुझे बताया गया कि यह जगह बहुत छोटी पड़ गई तो बगल में दो पंडाल बनाए गए और बाकी लोग वहां बैठे हुए हैं। आज गोवा न केवल अपनी मुक्ति की डायमंड जुबली मना रहा है, बल्कि 60 वर्षों की इस यात्रा की स्मृति भी हमारे सामने है। हमारे सामने आज हमारे संघर्ष और बलिदानों की गाथा भी है।

उन्होंने कहा कि  हमने कम समय में एक लंबी दूरी तय की है। सामने जब इतना कुछ गर्व करने के लिए हो तो भविष्य के लिए संकल्प खुद ब खुद बनने लग जाते हैं। एक और सुखद संयोग है कि गोवा की आजादी की यह जुबली आजादी के अमृत महोत्सव के साथ मन रही है। इसलिए गोवा के सपने और गोवा के संकल्प आज देश को ऊर्जा दे रहे हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि अमृत महोत्सव में देश ने हर एक देशवासी को सत्ता प्रयास का आह्वान किया है। गोवा का मुक्ति संग्राम इस मंत्र का बड़ा उदाहरण है। अभी मैं आजाद मैदान में शहीद मेमोरियल को देख रहा था। इसे चार हाथों की आकृतियों से आकार दिया गया है। यह प्रतीक है कि कैसे गोवा की मुक्ति के लिए देश के चारों कोनों से हाथ गुंथे हुए थे। आप देखिए गोवा एक ऐसे समय में पुर्तगाल के अधीन गया था, जब देश के दूसरे बड़े संभाग में मुगलों की सल्तनत थी। तबसे सत्ताओं की कितनी उठापटक हुई। लेकिन समय और सत्ताओं की उठापटक के बाद भी न गोवा अपनी भारतीय जड़ों को भूला न ही भारत कभी गोवा को भूला। गोवा मुक्ति का संग्राम ऐसी अमर ज्योति है, जो अटल रही है।

उन्होंने कहा कि देश तो गोवा से पहले आजाद हुआ था। देश के अधिकांश लोगों को अपने अधिकार थे। उनके पास अपने सपनों को जीने का समय था। उनके पास विकल्प था कि वो शासन व्यवस्था के लिए संघर्ष कर सकते थे। पद प्रतिष्ठा ले सकते थे, लेकिन कितने ही सेनानियों ने वो सब छोड़कर गोवा की आजादी के लिए संघर्ष और बलिदान का रास्ता चुना। गोवा के  लोगों ने मुक्ति और स्वराज के लिए आंदोलन को कभी थमने नहीं दिया। उन्होंने भारत के इतिहास में सबसे लंबे समय तक आजादी की लौ को जलाए रखा। भारत सिर्फ एक राजनीतिक सत्ताभर नहीं है। भारत मानवता और उसके हितों की रक्षा करने वाला एक विचार है, एक परिवार है। भारत एक ऐसा देश है जहां राष्ट्र सर्वोपरि होता है। जहां एक ही मंत्र होता है राष्ट्र प्रथम। एक ही संकल्प होता है- एक भारत, श्रेष्ठ भारत।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *