जीएल बजाज ने संजोयी Smart City मथुरा-2050 की परिकल्पना

जीएल बजाज में आई-सिटी मथुरा के नाम से Smart City-2050 की संकल्पना पर साप्ताहिक कार्यशाला का हुआ आयोजन,

32 छात्रों ने मिलकर बनाए Smart City मथुरा के आठ फिजीकल माॅडल

मथुरा। जी.एल.बजाज संस्थान के बी.आर्क. विभाग में ‘आई-सिटी मथुरा‘ के नाम से एक सप्ताह का Smart City की संकल्पना पर आधारित एक सप्ताह भर की कार्यशाला का आयोजन हुआ। कार्यशाला का आयोजन संस्थान की फैकेल्टी की सहभागिता एवं मुख्य रूप से आर्किटेक्ट अमित तलवार के मार्गदर्शन में किया गया। आर्किटेक्ट अमित तलवार ने कोलम्बिया विश्वविद्यालय, अमेरिका से शहरी योजना (अरबन डिजाइन) में विशेषता हासिल की है। विश्व ख्याति प्राप्त कई आर्किटेक्ट्स जैसे चाल्र्स कोरिया एवं बी.बी. दोशी आदि के साथ वह कार्य कर चुके हैं।

कार्यशाला में भविष्य के विश्वकर्मा अर्थात विद्यार्थियो ने अपने भविष्य के शहर ‘‘मथुरा-2050 की कल्पना करते हुए तकनीकी सम्भावनाओं, शहरी समस्याओं का निराकरण एवं भविष्यगामी परिकल्पनाओ के आधार पर अपने अभिनव विचारांे का अन्वेशषण किया एवं भौतिक प्रतिरूप (फिजीकल माॅडल) बनाकर प्रदर्शित किये।

विभाग के डीन आर्किटेक्ट अश्वनी सिरोमनी एवं विभागाध्यक्ष आर्किटेक्ट अनुराग बंसल ने बताया कि मथुरा शहर के विकास के क्रम में विद्यार्थियांे द्वारा किये गये चयनित कार्यों एवं उनके अभिनव विचारांे को आगे ले जाने की महती जरुरत है। इसके लिए मथुरा के विकास में सहभागिता रखने वाली सभी संस्थाओं के साथ विचार-विमर्श किया जाना चाहिए। इससे विद्यार्थियों के अभिनव विचारांे को शहर एवं उसके भविष्यगामी विकास में सहभागिता मिल सकें। यह कार्यशाला इस ओर सोचने एवं ध्यान आकर्षित करने की पहली कड़ी है। आर्किटेक्ट अमित तलवार ने संस्थान को इस दिशा में कार्य करने को अपना समर्थन देते हुए विद्यार्थियों को आगे भी मार्गदर्शन करने का आश्वासन दिया।

जीएल बजाज ग्रुप आफ इंस्टीटयुशंस के निदेशक डा. एलके त्यागी ने बताया कि आर्किटैक्चर विभाग के 73 छात्र-छात्राओं ने इस सात दिवसीय कार्यशाला में प्रतिभाग किया। इसमें से चार-चार छात्र-छात्राओं के 8 समूहों ने एक-एक स्मार्ट सिटी मथुरा का माॅडल बनाकर कार्यशाला में प्रतिदर्शित किया।

आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. रामकिशोर अग्रवाल, वाइस चैयरमेन पंकज अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल ने कहा कि कार्यशाला आर्किटेक्चर के छात्र-छात्राओं के भविष्य के स्मार्ट सिटी मथुरा-2050 के निर्माण में मील का पत्थर साबित होगी। उनके द्वारा स्मार्ट सिटी मथुरा के बनाए गए माॅडल काफी सराहनीय रहे हंै।

कार्यशाला में आए अंर्तराष्ट्रीय ख्यातिलब्ध आर्किटेक्ट अमित तलवार ने इन माॅडलों को देख कर भविष्य के मथुरा की परिकल्पना को सराहा है। इस दिशा मंे कार्य कर रहे छात्र-छात्रा संस्थान और अपने मथुरा शहर के प्रति काफी जागरुक हैं। इस कार्यशाला के समन्वयक आर्किटेक्ट योगेश यादव, डीन आर्किटेक्ट अश्वनी शिरोमनी, विभागाध्यक्ष आर्किटेक्ट अंनुराग बंसल आदि मौजूद रहे।

 

Smart City मथुरा-2050 में प्राचीनता और मौलिकता दरकिनार न हो-अमित तलवार
मथुरा। अंर्तराष्ट्रीय ख्यातिलब्ध आर्किटेक्ट अमित तलवार ने कहा कि देश के अनेक शहरो को स्मार्ट सिटी बनाने पर जोर दिया जा रहा है। पर अभी तक स्मार्ट सिटी की संकल्पना परिभाषित नही है। इस कार्यशाला का मुख्य उददेश्य स्मार्ट सिटी की संकल्पना पर विस्तार से चर्चा करना एवं आर्किटेक्चर के छात्र-छात्राओं समझाना था। जो कि हमारे देश के भविष्य के विश्वकर्मा हैं। उनके विचार एवं परिकल्पनाओं का अन्वेषण करना भी था। उन्होंने विशेष वार्ता में कहा कि मथुरा जैसे धार्मिक नगरों को स्मार्ट सिटी में बदलते समय उनकी प्राचीन स्वरुप को बरकरार रखते हुए आधुनिक सुविधाएं जुटानी होंगी। मथुरा की प्राचीनता और मौलिकता को दरकिनार कर सिर्फ आधुनिक सुविधाएं जुटा देना इस शहर के साथ अन्याय होगा। जो भारतीय सभ्यता और संस्कृति की अनदेखी भी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »