जीएल बजाज के छात्रों ने किया सुहागनगरी में industrial भ्रमण

मथुरा। जीएल बजाज के विद्यार्थियों ने ओम ग्लास वर्क्‍स, फिरोजाबाद का industrial भ्रमण किया। इस दौरान एमबीए और बीटेक मैकेनिकल के छात्र-छात्राओं ने चूडियां और अन्य कांच का सजावटी सामान बनाने की प्रक्रिया को न केवल नजदीक से देखा अपितु अपनी जिज्ञासा को शांत करने के करने के लिए सवाल भी पूछे। industrial विजिट में कम्पनी के अधिकारियों ने छात्र-छात्राओं के सवालों के जवाब देकर उनकी जिज्ञासाओं को शान्त किया एवं उनकी ज्ञानवृद्वि की। कम्पनी के अधिकारियों ने विद्यार्थियों के ज्ञान एवं कौशल की प्रशंसा भी की।

जी.एल.बजाज ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूशन्स के छात्र-छात्राओं के ओम ग्लास वक्र्स प्राईवेट लिमिटेड, फिरोजाबाद पहुंचने पर ग्लास निर्माण से सम्बन्धित सभी प्रक्रियाओं को नजदीकी से देखा। कम्पनी के साइट इंचार्ज सुनील राठौर ने विद्यार्थियों को ग्लास मेल्टिंग, आईएस मशीन, फरनेस नेचुरल गैस, डबल बॉल ग्लास रिफिल, ग्लास लाइनर्स, वेक्यूम फ्लॉस्क, सिल्वर कोटेड वेक्यूम, थर्मोस्टेट, थर्मस फ्लास्क, लैम्प ग्लास, परफ्यूम वोटल्स, कॉस्मेटिक बोटल्स, एवं सभी प्रकार के ग्लास उत्पादो सफेद एवं रंगीन, ग्लास रिसाइकिलिंग, सेन्टर नोजल, साइड नोजल, डाई, कटिंग, नॉन मेटलिक मिनरल प्रोडक्ट, ग्लासवेयर, ग्लास हैंडी क्राफ्ट सिंगल पीस, टेबिल वेयर वोटल्स आदि के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि ओम ग्लास, ग्लास, बोटल्स, थर्मस ग्लास रिफिल एवं ग्लास डेकोरेटिव उत्पादो की अग्रणी निर्माता एवं निर्यातक है।

आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. रामकिशोर अग्रवाल, वाइस चैयरमेन पंकज अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल ने कहा कि जीएल बजाज ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूशन्स के छात्र-छात्राओं के ज्यादा से ज्यादा प्लेसमेंट होने की प्रमुख वजह ऐसी गतिविधियां हैं। पूरे शैक्षिक सत्र के दौरान सैद्वान्तिक अध्ययन के बाद संस्थान की ओर से ऐसी गतिविधियों को कराकर छात्र-छात्राओं में प्रैक्टीकल नॉलेज ऐसी ही गतिविधियों से कराई जाती है। इससे प्लेसमेंट के दौरान छात्र-छात्रा नियोक्ता कम्पनी के अधिकारियों को सटीक एवं सही उत्तर देते हैं। इससे प्लेसमेंट आसानी से हो जाता है। इस अवसर पर कॉलेज के निदेशक डा. एलके त्यागी ने कहा कि किताबी ज्ञान के साथ-साथ व्यवसायिक एवं प्रायोगिक ज्ञान की महती आवश्यकता होती है। जो औद्योगिक भ्रमणों द्वारा ही प्राप्त की जा सकती है।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *