जीएल बजाज का आदित्य एकेटीयू के Mars Mission में चयनित

जीएल बजाज ग्रुप आफ इंस्टीटयुशंस का छात्र आदित्य जायसवाल डा. एपीजे अब्दुल कलाम टेक्नोलाॅजी यूनीवर्सिटी ने इन्नोवेशन गैलरी के परिणाम के बाद Mars Mission India को चुना
मथुरा। जीएल बजाज ग्रुप आफ इंस्टीटयुशंस के छात्र आदित्य जायसवाल को लखनउ स्थित डा. एपीजे अब्दुल कलाम टेक्नोलाॅजी यूनीवर्सिटी ने इन्नोवेशन गैलरी के परिणाम के बाद Mars Mission India के लिए चुन लिया है। छात्र आदित्य को विवि ने आठ छात्रों के प्रोजेक्टों को उनका विश्लेषण के बाद चयनित किया है। इसके साथ ही विवि ने प्रोटोटाइप के और अधिक विकास के लिए 12000/रुपये की सहायता निधि भी प्रदान की है।

आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. रामकिशोर अग्रवाल, वाइस चैयरममेन पंकज अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल बोले-जीएल बजाज अंतरिक्ष विज्ञान में भी लहराने जा रहा परचम

जीएल बजाज ग्रुप आफ इंस्टीटयुशंस के निदेशक डा. एलके त्यागी ने बताया कि डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम केंद्र (केसी) और यूनाइटेड किंगडम सेंटर फॉर एस्ट्रोबायोलॉजी (यूकेसीए) के बीच संयुक्त सहयोग से ये कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है। इसी क्रम में हमारे संस्थान के छात्र आदित्य जायसवाल के लिए अंतरिक्ष से जुड़े अपने उत्कृष्ट अभिनव विचार प्रस्तुत करने के लिए यह एक सुनहरा मौका था। जिसका उसने भरपूर फायदा उठाया। अब उनका प्रोटोटाइप लखनऊ विश्वविद्यालय कैंपस स्थित कलाम पुस्तकालय में प्रदर्शित होने पर उसका हिस्सा बन जाएगा।

आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. रामकिशोर अग्रवाल, वाइस चैयरममेन पंकज अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल ने कहा कि जीएल बजाज ग्रुप आफ इंस्टीटयुशंस अंतरिक्ष विज्ञान में भी परचम लहराने जा रहा है। वह मंगल मिशन का भी हिस्सा बनने जा रहा है। उन्होंने स्टाफ को बधाई देते हुए कहा कि ये उनकी मेहनत और लगन का परिणाम है। डा. एपीजे अब्दुल कलाम टेक्नीकल यूनीवर्सिटी के मार्स मिशन इंडिया में प्रतिभाग करने वाले सभी आठ छात्र-छात्रा बधाई के पात्र है।

‘मार्स मिशन इंडिया‘ में चयन के बाद अब….
मथुरा। मार्स मिशन इंडिया में चयनित सभी आठ छात्र-छात्राओं को मिली सहायता निधि से अपने प्रोटोटाइप को और अधिक विकसित करना होगा। इस विकसित नये प्रोटोटाइप का मूल्यांकन दो-तीन दिन साक्षात्कार के माध्यम से हो चुका है। इसका परिणाम आने के बाद इनमें से चयनित प्रोटोटाइप के साथ छात्र-छात्राएं सितम्बर-2018 में यार्कशायर स्थित एडनबर्ग विश्वविद्यालय के माइन एनालाॅग रिसर्च यानी कि मिनार प्रोजेक्ट में प्रतिभाग करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »