GL बजाज के छात्रों ने निजी संसाधनों से बनाई रेसिंग कार Gocart

दो सवारी के वाहन Gocart का निजी संसाधनों से निर्माण किया

मथुरा। जी.एल. बजाज के यांत्रिकी विभाग के चतुर्थ वर्ष के छात्रों ने एक बेहतरीन प्रोजेक्ट को पूरा करने में सफलता हासिल की है। उन्होंने दो सवारी के वाहन Gocart का निजी संसाधनों से निर्माण किया है। यह वाहन अपने आप में यांत्रिकी विज्ञान की कई विशिष्टताए लिए हुए है। मात्र 20 हजार रुपये की लागत की इस रेसिंग कार का नाम Gocart दिया है। इस प्रोजेक्ट के माध्यम से उन्होंने यांत्रिकी की बारीकियांे से अवगत कराया है। छात्रों ने इस प्रोजेक्ट को पूरा कर जीएल बजाज और उसके स्टाफ को गौरवांन्वित किया।

आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. रामकिशोर अग्रवाल, वाइस चैयरमेन पंकज अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल ने रचनात्मक सोच को प्रोत्साहित करें

यांत्रिकी विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. उदयवीर सिंह ने बताया कि जीएल बजाज ग्रुप आफ इंस्टीटयुशंस की यांत्रिकी विभाग के छात्र योगेश शर्मा, सचिन कुमार, करन गोयल, दीपक कुमार, विकास सिंह और पंकज शर्मा ने Gocart बनाकर एक नया कीर्तिमान स्थापित किया है। इस गोकार्ट में कुछ खास विशेषताएं है। जैसे इसका माइलेज एक लीटर में 40 किमी और स्पीड एवरेज 40 किमी/घंटा है। ये वाहन चिकनी के अलावा उबड-खाबड और सडकों पर चलने में भी सक्षम है। इस वाहन का संतुलन भी काफी अच्छा है। इससे तेज गति होने पर असंतुलित होने की संभावना काफी कम होती है। एचओडी डा. उदयवीर सिंह ने बताया कि उनका विभाग अब भविष्य में हाइब्रिड कारों के निर्माण पर कार्य कराएंगे।

आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. रामकिशोर अग्रवाल, वाइस चैयरमेन पंकज अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल ने छात्रों और स्टाफ को बधाई देते हुए कहा कि जीएल बजाज ग्रुप आफ इंस्टीटयुशंस के छात्र-छात्रा हर रोज नई तकनीकों का उपयोग करके जनउपयोगी प्रोजेक्टों पर कार्य कर रहे हैं। उनकी इस रचनात्मक सोच और कार्यशैली को प्रोत्साहित करने की जरुरत है। इससे वे समाज और राष्ट्र को अपनी रचनात्मक सोच का लाभ दे सकें। संस्था के निदेशक डाॅ. एल. के. त्यागी जी ने बच्चों के उत्साह को देखते हुए उन्हें भविष्य में नई ऊचाइयां छूने के लिये प्रोत्साहित किया। छात्रांे ने संस्था के कैम्पस में ही प्रयोगात्मक टेस्ट ड्राइव किया गया है।

इस मौके पर संस्था के यांत्रिकी विभाग के सभी प्रोफेसर एवं छात्र उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »