वर्तमान आर्थिक स्थिति से रूबरू हुए GL बजाज के छात्र-छात्राएं

मथुरा। GL बजाज ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के स्कूल ऑफ मैनेजमेंट विभाग द्वारा आयोजित वेबिनार में सीनियर एनालिस्ट, वेबहेल्प इंडिया के मनीष उपाध्याय ने छात्र-छात्राओं को कोरोना संकटकाल में देश की आर्थिक स्थित और उससे निपटने के उपाय बताए।

श्री उपाध्याय ने छात्र-छात्राओं को रिसोर्स और प्लानिंग से रूबरू कराने के साथ ही नए रोजगार बल तथा महामारी की स्थिति में खुद को तैयार करने के उपाय भी सुझाए। उन्होंने बताया कि भारतीय अर्थव्यवस्था की बुनियाद भले ही कृषि क्षेत्र हो लेकिन वर्तमान समय में भारतीय अर्थव्यवस्था में विकास के पीछे मिडिल क्लास और लोअर मिडल क्लास के लोगों का सबसे बड़ा हाथ है। यही कारण है कि भारत को हमेशा एक मिडिल इनकम ग्रुप की अर्थव्यवस्था के रूप में परिभाषित किया जाता है।

श्री उपाध्याय ने बताया कि कोविड-19 के जारी वैश्विक संकट के बीच भारतीय परिदृश्य में आर्थिक दृष्टिकोण से सबसे अधिक चर्चा दो पहलुओं पर हो रही है। पहला, भारतीय अर्थव्यवस्था की सबसे कमजोर आबादी यानी किसान, असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले मजदूर, दैनिक मजदूरी के लिए शहरों में पलायन करने वाले मजदूर और शहरों में सड़क के किनारे छोटा-मोटा व्यापार करके आजीविका चलाने वाले लोग। दूसरे पहलू की बात करें तो इसमें भारतीय अर्थव्यवस्था में योगदान देने वाला मैन्यूफैक्चरिंग और बिजनेस सेक्टर शामिल है।

श्री उपाध्याय ने बताया कि दुनिया भर की सरकारें इन दोनों ही पहलुओं पर काम कर रही हैं। सरकारों ने अपने देश में स्थिति से निपटने के लिए बड़े राहत पैकेज का ऐलान किया है और उसी क्रम में भारत सरकार ने भी गरीबों की मदद के लिए एक बड़े पैकेज का ऐलान किया है। सरकार ने पहले चरण में जो राहत पैकेज जारी किया है वह पूरी तरीके से कमजोर और असंगठित क्षेत्र के लोगों की समस्याओं के निवारण के लिए है। कार्यक्रम में विभागाध्यक्ष प्रो. गजल सिंह, प्रो. जीतेन्द्र सिंह तथा डा. रचित गुप्ता ने भी छात्र-छात्राओं को कौशल बढ़ाने तथा आर्थिक स्थिति का सामना करने के तौर-तरीके बताए।

संस्थान के निदेशक डा. एल.के. त्यागी ने कहा कि शैक्षिक संस्थान बंद होने के बावजूद जी.एल. बजाज का प्रयास है कि छात्र-छात्राओं को पठन-पाठन में दिक्कत का सामना न करना पड़े। जी.एल. बजाज द्वारा हर संकाय के छात्र-छात्राओं को नियमित रूप से विषय विशेषज्ञों के अनुभवों का लाभ दिलाया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *