श्रीकृष्ण की आवाज है गीता: Dr. Manju Navani

मथुरा। KD मेडिकल काॅलेज-हाॅस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के मंदिर में कल छात्र-छात्राओं ने भक्तिभाव से श्रीकृष्ण जन्माष्टमी मनाई। इस दौरान छात्राें ने आराध्य बांके बिहारी की पूजा-अर्चना के साथ भजनों की अमृत वर्षा की। इस अवसर पर प्राचार्य Dr. Manju Navani के कहा कि बच्चों सफलता के लिए गीता जरूर पढ़ें क्योंकि भगवद् गीता श्रीकृष्ण की आवाज है। डाॅ. के.पी. दत्ता ने उपस्थित छात्र-छात्राओं को भगवान श्रीकृष्ण के महात्म्य की जानकारी दी।

जन्माष्टमी के पावन अवसर पर अधिकांश छात्र-छात्राओं ने उपवास रखा तथा श्रीकृष्ण मुरारी के जन्मोत्सव तक भजन-कीर्तन करते रहे। मंदिर प्रांगण में आयोजित कार्यक्रमों की झलक पाने के लिए बड़ी संख्या में कृष्ण भक्तों का जमावड़ा लगा रहा। छात्र-छात्राओं ने बांके बिहारी का भव्य श्रृंगार किया। मेडिकल छात्र-छात्राओं ने नयनाभिराम दही हांडी नृत्य प्रस्तुत किया।

इस अवसर पर आर के एजुकेशन हब के चेयरमैन डाॅ. रामकिशोर अग्रवाल ने छात्र-छात्राओं को जन्माष्टमी पर्व की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि हमें श्रीकृष्ण की तरह कर्म को महत्व देना चाहिए। कर्म ही पूजा है और कर्म से ही अच्छे व्यक्तित्व का निर्माण होता है। डाॅ. अग्रवाल ने कहा कि देवताओं में भगवान श्रीकृष्ण विष्णु के अकेले ऐसे अवतार हैं जिनके जीवन के हर पड़ाव के अलग रंग दिखाई देते हैं। उनका बचपन लीलाओं से भरा पड़ा है। उनकी जवानी रासलीलाओं की कहानी कहती है।

डाॅ. अग्रवाल ने कहा कि श्रीकृष्णजी एक राजा और मित्र के रूप में वे भगवद् भक्त और गरीबों के दुखहर्ता बनते हैं तो युद्ध में कुशल नीतिज्ञ। महाभारत में गीता के उपदेश से कर्तव्यनिष्ठा का जो पाठ भगवान श्रीकृष्ण ने पढ़ाया है आज भी उसका अध्ययन करने पर हर बार नये अर्थ निकल कर सामने आते हैं। स्कूल के प्रबंध निदेशक मनोज अग्रवाल ने छात्र-छात्राओं से कहा कि हम उस भूमि पर निवास कर रहे हैं जहां प्रभु श्रीकृष्ण ने जन्म लिया और अपनी बाल-लीलाओं से सभी का मन मोहा। सच कहें तो भगवान श्रीकृष्ण का प्रेम अद्वितीय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »