देने वालों की नीयत और सोच के बारे में बहुत कुछ बताते हैं ”गिफ्ट्स”

बर्थडे , शादी, ऐनिवर्सरी और ऐसे ही लाइफ के दूसरे खूबसूरत अवसरों पर मिलने वाले गिफ्ट्स इन्हें देने वालों की नीयत और सोच के बारे में बहुत कुछ बताते हैं।
सोचिए, अगर किसी शादी में जाना हो तो आमतौर पर क्या गिफ्ट देने का खयाल आता है, क्रॉकरी सेट या बेड शीट। क्या हम कभी सोचते हैं कि आखिर एक कपल अपने पास कितने क्रॉकरी सेट रखेगा या उसे कितनी बेडशीट्स की जरूरत होगी? वहीं किसी बच्चे के जन्मदिन में जाते वक्त कॉमन गिफ्ट है क्रियॉन्स। पहली बार तो बच्चे के जरूरत की चीज है तो पैरंट्स ने उसे दिला ही रखी होगी। फिर भी, एक बच्चा कितने क्रियॉन्स यूज करेगा? हम इस पर सोचने की जहमत ही नहीं उठाते हैं।
जानिए, ऐसे गैर जरूरी गिफ्ट क्या संदेश देते हैं….
रिसर्च कहती है कि कॉमन गिफ्ट देना बुरा नहीं है लेकिन ऐसे ही बहुत सारे गिफ्ट्स एकसाथ मिलना, इन्हें पाने वाले को आपके बारे में बुरा महसूस कराता है। न्यूयॉर्क इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में मार्केटिंग के एसोसिएट प्रोफेसर देवोर वाई कोह्न के अनुसार ‘बुरे गिफ्ट सलेक्शन के पीछे जरूरी नहीं है कि ईर्ष्या का भाव हो लेकिन अधिक मात्रा में ऐसे गिफ्ट देने में ऐसी भावना जरूर नज़र आती है।’ कोह्न आगे कहते हैं ‘बुरे गिफ्ट पाना अपमान की तरह होता है। ये कुछ ऐसा है जैसे अपनी नई-नवेली दुल्हन को एक सास दीपवाली गिफ्ट के तौर पर प्रेग्नेंसी चेकअप किट दे जबकि उसे पता हो कि बहू गर्भवती नहीं है।’
गिफ्ट्स की एक कैटिगरी होती है ‘एग्रेसिव गिफ्ट्स’। हालांकि गिफ्ट सलेक्शन की थिअरी को पूरी तरह जज नहीं किया जा सकता है, फिर भी गिफ्ट कई बार देने वाले का स्वार्थ और कंजूसी को साफतौर पर बयां करते हैं। कोह्न कहते हैं, ये कुछ ऐसा है जैसे पत्नी अपने पति के जन्मदिन पर डिशवॉश गिफ्ट कर दे और पति अपनी पत्नी के जन्मदिन पर जैंट्स हैंकी। मतलब, आपने गिफ्ट तो दिया लेकिन वो आपके काम का है, पाने वाले के नहीं।
गिफ्ट्स की अगली कैटिगरी होती है कॉम्पिटिटिव गिफ्ट्स की। ये अक्सर नजदीकी रिश्तों में दिए जाते हैं। यानी, दादा-दादी ने जो गिफ्ट दिए हैं, पैरंट्स उनसे महंगे गिफ्ट लाकर बच्चों को दें। या इसके ठीक उलट स्थिति हो। ऐसे में यह नहीं देखा जाता कि ये गिफ्ट पाने वाले के लिए हैं भी या नहीं। बस कीमत देखकर इनका चुनाव किया जाता है।
कुछ गिफ्ट ऐसे होते हैं जो कॉम्पिटिटिव और एग्रेसिव दोनों होते हैं। जो महंगे भी होते हैं और पाने वाले को बुरा भी महसूस कराते हैं। गिफ्ट्स पर आधारित यह स्टडी पिछले दिनों ‘द कंवर्सेशन’ में प्रकाशित की गई।
-एजेंसी