गैयोरुल हसन रिजवी ने कहा, राम मंदिर का निर्माण अयोध्या में करना ही सही रास्ता

नई दिल्ली। नेशनल कमीशन फॉर माइनॉरिटी के प्रमुख गैयोरुल हसन रिजवी ने राम मंदिर बनाने के लिए अपना समर्थन दिया है। उन्होंने कहा कि दोनों समुदायों के बीच सांप्रदायिक टकराव की आशंका को देखते हुए राम मंदिर का निर्माण अयोध्या में करना ही सही रास्ता है। किसी भी तरह के टकराव से बचने के लिए यह एक सुविधाजनक रास्ता हो सकता है।
रिजवी ने कहा, ‘टेंशन का माहौल लगातार बनता जा रहा। हिंदुओं और मुस्लिमों के बीच जिस तरह टकराव के हालात बन रहे हैं उसे देखकर हम चिंतित हैं।’ उन्होंने यह भी कहा कि कमीशन की 14 नवंबर को अहम बैठक होगी, जिसमें सुप्रीम कोर्ट में इस मुद्दे पर जल्दी सुनवाई के लिए अपील किए जाने पर विचार किया जाएगा।
नेशनल कमीशन फॉर माइनॉरिटी की अहम बैठक अगले सप्ताह होने वाली है, जिसमें राम मंदिर को लेकर कमीशन के रुख को स्पष्ट किया जाएगा। सरकार से मिलकर राम मंदिर मुद्दे पर कमीशन के स्टैंड को स्पष्ट करने के लिए भी एक प्रस्ताव तैयार किया जा सकता है। रिजवी ने कहा, ‘सरकार को सभी पक्षों के साथ बातचीत के जरिए या फिर कानून लाकर राम मंदिर निर्माण के लिए उचित कदम उठाना चाहिए। माहौल में बढ़ रहे तनाव को देखते हुए एक रास्ते को निकालकर उस पर आगे बढ़ना आवश्यक है।’
रिजवी ने वीएचपी और आरएसएस के राम मंदिर निर्माण को लेकर बेकरारी पर कहा कि वह भी निजी तौर पर मंदिर बनाने के पक्ष में हैं। उन्होंने कहा, ‘निजी तौर पर मेरा विचार है कि विवादित स्थल पर राम मंदिर का निर्माण होना चाहिए। भय और तनाव के इस माहौल में मुस्लिम अल्पसंख्यकों के सुरक्षित रहने के लिए मंदिर निर्माण ही वहां पर एक मात्र विकल्प है।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »