फैशन के क्षेत्र में करियर बनाना चाहते हैं तो अभी से जुट जाइए

आप में अगर फैशन के प्रति पैशन है और इस क्षेत्र में करियर बनाना चाहते हैं तो अभी से तैयारी में जुट जाइए। देश में निफ्ट के 13 संस्थान हैं जहां से आप बैचलर इन डिजाइन कोर्स के तहत फैशन, लेदर, टेक्सटाइल, निटवेयर और फैशन कम्युनिकेशन विषयों में डिग्री हासिल कर सकते हैं। प्रवेश के लिए न्यूनतम योग्यता मान्यता प्राप्त बोर्ड से किसी भी विषय में 10+2 है। आप यदि एआईसीटीई से मान्यता प्राप्त तीन या चार साल का डिप्लोमा किए हुए हैं, तभी बैचलर कोर्स के लिए आवेदन कर सकते हैं।
मास्टर्स डिग्री
बैचलर इन डिजाइन के अलावा निफ्ट से बैचलर ऑफ फैशन टेक्नॉलजी इन एपेरल प्रोडक्शन का कोर्स भी संभव है। लेकिन इस कोर्स में प्रवेश के लिए कैंडिडेट्स को 10+2 में फिजिक्स, कैमिस्ट्री और मैथ्स विषयों के साथ पास होना चाहिए। डिजाइन, फैशन मैनेजमेंट और फैशन टेक्नॉलजी में निफ्ट से मास्टर डिग्री भी हासिल की जा सकती है। इन कोर्सेज में प्रवेश के लिए न्यूनतम योग्यता संबंधित विषय में बैचलर डिग्री है। निफ्ट से फैशन तकनीक के क्षेत्र में डॉक्टरेट डिग्री भी हासिल की जा सकती है।
तैयारी
अगर आपका बैकग्राउंड अच्छा रहा है तो ज्यादा डरने की जरूरत नहीं है। और, अगर आपको लगता है तो आप पीछे की चीजें भूल चुके हैं तो एक बार फिर से 10वीं-12तक की एनसीईआरटी की किताबों का सहारा लें। सीएटी यानी क्रिएटिव अबिलिटी टेस्ट के जरिये कैंडिडेट्स की ऑब्जर्वेशन पॉवर और डिजाइन करने की क्षमता को परखा जाता है। सिचुएशन टेस्ट में अभ्यर्थी को एक सवाल और उससे जुड़े सामान उपलब्ध कराये जाते हैं, जिसके जरिये अभ्यर्थी को उस सवाल के आधार पर सामान तैयार करना होता है।
एग्जाम
ग्रैजुएट लेवल के कोर्सेज के लिए प्रवेश परीक्षा कुल तीर चरणों में ली जाती है। पहले चरण में रिटेन टेस्ट होता है। इसमें जनरल अबिलिटी टेस्ट की परीक्षा होती है। दो घंटे की इस परीक्षा में इंग्लिश कॉम्प्रिहेंशन, ऐनालिटिकल अबिलिटी, कम्युनिकेशन अबिलिटी के अलावा विज्ञान, गणित, इतिहास, भूगोल, नागरिक शास्त्र आदि से जुड़े जनरल नॉलेज और करेंट अफेयर्स से संबंधित सवाल पूछे जाते हैं। करेंट अफेयर्स के सवाल देश-विदेश के ताजा हाल, फेमस पर्सनैलिटीज और साल भर में घटने वाली प्रमुख घटनाओं पर आधारित होते हैं। दूसरे चरण में क्रिएटिविटी और फैशन के प्रति लगाव की परख के लिए क्रिएटिविटी टेस्ट होता है। तीसरा चरण सिचुएशन टेस्ट का होता है। याद रखें सफलता के लिए तीनों ही चरण अहम हैं। एग्जाम में तीनों चरणों का वेटेज 40, 40 और 20 प्रतिशत का है।
स्कॉलरशिप
निफ्ट में दाखिला लेने वाले आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों के लिए अब फीस में 25 से लेकर 75 फीसदी तक की स्कॉलरशिप का भी प्रावधान हो गया है। जिनके परिवार की सालाना आमदनी एख लाख रुपये तक है उन्हें फीस में 75 फीसदी की छूट और जिनके परिवार की सालाना आमदनी क्त्रमश: 2 और 3 लाख रुपये है, उन्हें 50 और 25 फीसदी की छूट मिलती है। ज्यादा जानकारी निफ्ट वेबसाइट ww.nift.ac.in से ली जा सकती है।
निफ्ट सेंटर
एनआईएफटी (निफ्ट) के फिलहाल देश में 13 सेंटर हैं। एक इंटरनैशनल सेंटर भी है। देश में निफ्ट संस्थान बंगलुरु, पटना, हैदराबाद, शिलांग, कन्नूर, कांगड़ा, रायबरेली, चेन्नई, नई दिल्ली, कोलकाता, भोपाल, मुंबई, गांधीनगर में हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »