आखिरी तिमाही में GDP ग्रोथ रेट 7.7 फीसदी, नोटबंदी और GST का असर खत्म

नई दिल्‍ली। देश की GDP में अच्छी ग्रोथ देखने को मिली है. वित्त वर्ष 2017-18 की आखिरी तिमाही (जनवरी से मार्च) में GDP ग्रोथ रेट 7.7 फीसदी रही है, जबकि 7.4 फीसदी का अनुमान लगाया जा रहा था. वहीं, पिछली तिमाही (अक्टूबर से दिसंबर) में GDP ग्रोथ रेट 7.2 फीसद रही थी. वहीं, वित्त वर्ष 2017-18 में जीवीए 6.5 फीसदी रहा है. आपको बता दें कि GDP का मतलब होता है ग्रॉस डोमेस्टिक प्रोडक्ट. किसी भी देश की आर्थिक सेहत को मापने का यह पैमाना या जरिया है. गौरतलब है कि यह GDP ग्रोथ रेट का बीती छह तिमाहियों में सबसे उम्दा प्रदर्शन है. आपको बता दें कि चालू वित्त वर्ष (2017-18) की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में जीडीपी 6.3 फीसद और वहीं पहली तिमाही में GDP ग्रोथ 5.7 फीसदी रही थी.
नोटबंदी और GST का असर खत्म
एक्सपर्ट्स कहते हैं कि GDP के ताजा आंकड़ों से साफ है कि देश की अर्थव्‍यवस्‍था अब नोटबंदी और जीएसटी के झटके से उबर कर मजबूती की राह पर है. रिजर्व बैंक ने भी अप्रैल की मॉनिटरी पॉलिसी स्‍टेटमेट में कहा था कि देश में निवेश की गतिविधियों में तेजी आ रही है जिससे आने वाले समय में अर्थव्‍यवस्‍था में तेजी आएगी.
फिक्की का अनुमान
इससे पहले उद्योग मंडल फिक्की ने पूरे देश का सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की वृद्धि दर बीते वित्त वर्ष की चौथी तिमाही (जनवरी- मार्च) के दौरान 7.1 फीसदी रहने का अनुमान दिया था. फिक्की ने वित्त वर्ष 2017-18 में GDP की वृद्धि दर 6.6 फीसदी रहने का अनुमान जताया था. फिक्की के आर्थिक परिदृश्य सर्वे में कहा गया था कि पूरे वित्त वर्ष 2017-18 में स्थिर मूल्य पर GDP की वृद्धि दर 6.6 फीसदी रहने का अनुमान है.
मूडीज का अनुमान
बुधवार को अंतर्राष्ट्रीय रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विसेज ने चालू वित्त वर्ष के लिए भारत की सकल घरेलू उत्पाद (GDP) वृद्धि दर के अपने अनुमान को घटाकर 7.3 फीसदी कर दिया था. पहले एजेंसी ने 7.5 फीसदी वृद्धि का अनुमान जताया था. मूडीज ने कहा था कि भारत की अर्थव्यवस्था में क्रमिक सुधार हो रहा है लेकिन तेल की बढ़ती कीमतें और मुश्किल वित्तीय हालात भारत की सुधार की रफ्तार को धीमा करेंगी.
इन आधार पर तय होती है GDP
भारत में जीडीपी की गणना प्रत्येक तिमाही में होती है. जीडीपी का आंकड़ा अर्थव्यवस्था के प्रमुख उत्पादन क्षेत्रों में उत्पादन की वृद्धि दर पर आधारित होता है. GDP को मापने के लिए कृषि, उद्योग और सर्विस तीन प्रमुख चीजें होती हैं. इसके अलावा इसमें निजी खपत, अर्थव्यवस्था में सकल निवेश, सरकारी निवेश, सरकारी खर्च और नेट फॉरेन ट्रेड (निर्यात और आयात का फर्क) शामिल होता है. इन क्षेत्रों में उत्पादन बढ़ने या घटने के औसत आधार पर GDP दर तय होती है.
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »