Sharad Purnima पर होगा गुरुशरणानन्द के आश्रम में देश के प्रख्यात सन्तों का समागम

ब्रह्मांड घाट स्‍थित कार्ष्‍णि गुरू गुरुशरणानन्द के आश्रम में होगा Sharad Purnima का वृहद आयोजन

मथुरा। इस बार 24 अक्टूबर को Sharad Purnima ब्रज में जोरशोर से मनाई जाएगी। द्वापर युग में Sharad Purnima के दिन श्रीकृष्‍ण द्वारा यमुना तट पर गोपिकाओं के साथ महारास की कामजयी लीला की गई थी। उसी परम्परा में सन्त प्रवर स्वामी कार्ष्‍णि गुरू गुरुशरणानन्द जी महाराज के रमणरेती आश्रम में महारास का आयोजन 7 बजे किया जा रहा है।

इसी अवसर पर ब्रह्मांड घाट आश्रम में बाबा रामदेव, स्वामी अवधेशानन्द, स्वामी राजेन्द्र कृष्‍णदास, स्वामी ज्ञानानन्द, पुण्डरीक गोस्वामी आदि प्रख्यात सन्त एवं विद्वानों के प्रवचन भी होंगे।

आश्रम प्रवक्ता आचार्य अशोक कुमार जोशी ने भक्तजनों से उपस्थिति का आग्रह किया है।

माना जाता है कि शरद पूर्णिमा पर हर साल इस रात निधिवन में श्रीकृष्ण गोपियों संग रचाते हैं रास, गोपियों की एक इच्छा पूरी करने के लिए भगवान ने की थी रासलीला।

24 अक्टूबर को आश्विन मास की पूर्णिमा है। इसे Sharad Purnima कहा जाता है। शास्त्रों में इस पूर्णिमा का काफी अधिक महत्व बताया गया है। द्वापर युग में भगवान श्रीकृष्ण ने शरद पूर्णिमा की रात में ही गोपियों के साथ रासलीला की थी। मान्यता है कि हर साल शरद पूर्णिमा की रात श्रीकृष्ण गोपियों के साथ वृंदावन के निधिवन में रासलीला रचाते हैं। इसी वजह से निधिवन को आज भी रहस्यमयी माना जाता है। वृंदावन उत्तर प्रदेश में मथुरा के पास ही स्थित है।

दूसरी ओर महावन की रमणरेती के ब्रह्मांड घाट स्‍थित कार्ष्‍णि गुरू गुरुशरणानन्द जी महाराज के आश्रम में संतों का आना इस अवसर को और भक्‍तिमय बना देगा।

-Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »