जूनागढ़ में कांच के टुकड़ों पर खेला जाता है गरबा

नवरात्रि में गरबा की धूम हर जगह होती है। रंग बिरंगे लहंगा चोली पहनकर लोग एक साथ गरबा खेलते हैं लेकिन आज हम आपको एक ऐसे गरबा आयोजन के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे देखकर आप अचरज में पड़ जाएंगे।
गरबा लोग कई तरह से खेलते हैं। कुछ लोग हाथों में दिया लेकर तो कोई आग के गोले के अंदर मशाल के साथ तो कहीं सांप के साथ करतब दिखाते हुए लोग गरबा खेलते हैं। यानि कि जितने शहर उतने ही तरीके।
गरबा की सबसे ज्यादा रौनक जिस राज्य में दिखाई देती हैं वो है गुजरात। यहां पर अलग अलग शहरों में नवरात्रि के दिन खास तरह का आयोजन किया जाता है। गुजरात का ऐसा ही अनोखा शहर जूनागढ़ है जहां पिछले 10 सालों से ऐसा गरबा खेला जाता है जिसे देखकर लोग हैरानी में पड़ जाते हैं।
नवरात्रि में अष्टमी के दिन यहां पर 11 से 14 साल की लड़कियां गरबा करती हैं लेकिन गरबा खेलने के लिए उनके पैरों के नीचे मिट्टी नहीं बल्कि कांच के टुकड़े बिछा दिए जाते हैं।
इतना ही नहीं, बल्कि उनके हाथों में जलता हुआ दीपक भी होता है। इस आयोजन की खास बात ये है कि यहां पर आने वाली लड़कियों की उम्र के लिए एक पैमाना निश्चित है और उससे कम या ज्यादा उम्र की लड़कियों को इस खास तरह का गरबा खेलने की इजाजत नहीं दी जाती।
अब आप से सोच रहे होंगे कि कांच के टुकड़ों पर गरबा खेलते हुए इन लड़कियों के पैर खून से लहुलुहान हो जाते होंगे। हालांकि दिलचस्प बात ये हैं कि गरबा के दौरान लड़कियों के पैर पर एक खरोंच तक भी नहीं आती। इस आयोजन को देखने के लिए लोगों की काफी भीड़ होती है और लोग इसे देखकर दांतों तले उंगलियां दबा लेते हैं।
-एजेंसी