Gahlot ने कहा, मेरे बेटे की हार के लिए सचिन पायलट जिम्‍मेदार

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक Gahlot ने अपने बेटे वैभव गहलोत की जोधपुर सीट से हार के लिए सचिन पायलट को भी जिम्मेदार ठहराया है।
गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में हार के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की राजस्थान और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्रियों से नाराज़गी की ख़बरें आई थीं।
Gahlot ने कहा, ”सचिन पायलट को इस हार की जिम्मेदारी लेनी चाहिए।” सचिन पायलट ने गहलोत के इस बयान पर हैरानी जताते हुए प्रतिक्रिया देने से इंकार किया है।
गहलोत ने एक इंटरव्यू में कहा, ”पायलट साहेब ने कहा था कि मेरा बेटा वैभव जोधपुर से बड़े अंतर से जीतेगा। इस लोकसभा क्षेत्र में हमारे छह विधायक हैं और हमारा चुनावी प्रचार वहां शानदार था इसलिए मुझे लगता है कि पायलट को कम से कम इस सीट की जिम्मेदारी लेनी चाहिए।
जोधपुर सीट का पूरा पोस्टमॉर्टम किया जाना चाहिए कि आख़िर हम वहां जीते क्यों नहीं?”
गहलोत ने आगे कहा, ”पायलट ने कहा था कि हम जोधपुर जीत जीत रहे हैं। इसलिए वैभव को पार्टी से टिकट मिला. हम 25 की 25 सीटें हार गए। अगर कोई कहता है कि मुख्यमंत्री या पीसीसी प्रमुख को जिम्मेदारी लेनी चाहिए तो मेरा मानना है कि ये सबकी जिम्मेदारी है।”
इंटरव्यू में गहलोत से पूछा गया कि क्या यह सच है कि जोधपुर से आपके बेटे का नाम पायलट ने ही सुझाया था?
गहलोत ने कहा, ‘यदि पायलट ने ऐसा किया था तो यह अच्छी बात है। यह हम दोनों के बीच मतभेद की खबरों को खारिज करती है।’
इस बयान में उन्होंने कहा, ‘पायलट साहब ने यह भी कहा था कि वह बड़े अंतर से जीतेगा, क्योंकि हमारे वहां 6 विधायक हैं, और हमारा चुनाव अभियान बढ़िया था। तो मुझे लगता है कि उन्हें वैभव की हार की जिम्मेदारी तो लेनी चाहिए।
जब उनसे पूछा गया कि क्या उन्हें वाकई लगता है कि पायलट को हार की जिम्मेदारी लेनी चाहिए? सीएम ने कहा, ‘उन्होंने कहा कि हम जोधपुर जीत रहे थे (जोधपुर से), इसलिए उन्होंने जोधपुर से टिकट लिया।
केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने वैभव गहलोत को करीब 4 लाख वोटों के अंतर से हराया है। यहां तक कि गहलोत की विधानसभा सीट सरदारपुरा से भी वैभव 19000 वोटों से पीछे रहे, जबकि गहलोत 1998 से वहां से जीतते आ रहे हैं। गहलोत के बेटे का इस सीट से हारना इसलिए भी चौंकाने वाला है, क्योंकि गहलोत वहां से 5 बार चुनकर संसद पहुंच चुके हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »