GL बजाज के छात्रों ने बनाई रेसिंग कार Go kart

मथुरा। ब्रज मण्डल के तकनीकी शिक्षा के श्रेष्ठ संस्थानों में से एक GL बजाज ग्रुप आफ इंस्टीट्यूशंस के छात्रों ने अपने निजी संसाधनों से यांत्रिकी विज्ञान की कई विशिष्टताएं लिए हुए एक रेसिंग कार Go kart बनाकर अपनी प्रतिभा का नायाब नमूना पेश किया। छात्रों की इस शानदार उपलब्धि की चहुंओर प्रशंसा हो रही है।

GL बजाज संस्थान के यांत्रिकी विभाग के चतुर्थ वर्ष के छात्रों ने अपनी तकनीकी क्षमता और निजी संसाधनों से यांत्रिकी विज्ञान की कई विशिष्टताएं लिए हुए एक रेसिंग कार Go kart का निर्माण किया है। लगभग 20 हजार रुपये की लागत की इस रेसिंग कार का नाम ‘गोकार्ट‘ दिया गया है। यांत्रिकी विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. उदयवीर सिंह ने बताया कि GL बजाज ग्रुप आफ इंस्टीट्यूशंस की यांत्रिकी विभाग के छात्र योगेश शर्मा, सचिन कुमार, करन गोयल, दीपक कुमार, विकास सिंह और पंकज शर्मा ने रेसिंग कार ‘गोकार्ट‘ बनाकर एक नया कीर्तिमान स्थापित किया है।

प्रो. सिंह का कहना है कि इस गोकार्ट में कुछ खास विशेषताएं हैं। जैसे इसका माइलेज एक लीटर में 40 किलोमीटर और स्पीड एवरेज 40 किलोमीटर प्रतिघंटा है। इस वाहन की विशेषता यह है कि इससे ऊबड़-खाबड़ सड़कों पर भी यात्रा की जा सकती है। इस वाहन का संतुलन काफी अच्छा है तथा तेज गति होने पर भी इसके असंतुलित होने की सम्भावना बिल्कुल नहीं होती। प्रो. सिंह का कहना है कि उनका विभाग अब भविष्य में हाईब्रिड कारों के निर्माण की दिशा में भी काम करेगा।

आरके एज्युकेशन हब के चेयरमैन डा. रामकिशोर अग्रवाल, वाइस चेयरमैन पंकज अग्रवाल और प्रबंध निदेशक मनोज अग्रवाल ने छात्रों तथा स्टाफ को बधाई देते हुए कहा कि जीएल बजाज ग्रुप आफ इंस्टीट्यूशंस के छात्र-छात्राओं द्वारा हर रोज नई टेक्निक का उपयोग कर जनोपयोगी प्रोजेक्टों पर कार्य किया जाना खुशी की बात है। उनकी इस रचनात्मक सोच और कार्यशैली को निरंतर प्रोत्साहित करने की जरूरत है ताकि वे समाज तथा राष्ट्र को अपनी रचनात्मक सोच का लाभ दे सकें।

संस्था के निदेशक डॉ. एल. के. त्यागी ने छात्रों के उत्साह को देखते हुए उन्हें भविष्य में नई ऊचाइयां छूने के लिये प्रोत्साहित किया। छात्रों द्वारा इस कार का संस्था के कैम्पस में ही प्रयोगात्मक टेस्ट ड्राइव किया गया है। इस मौके पर संस्था के यांत्रिकी विभाग के प्रोफेसर एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »