मोदी सरकार के चार साल: गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बताया, सुरक्षाबलों ने मारे 619 आतंकवादी

लखनऊ। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने केंद्र सरकार के चार साल पूरे होने के मौके पर मंगलवार को मंत्रालय से जुड़ी उपलब्धियां बताईं। उन्होंने बताया कि 4 साल के कार्यकाल में सुरक्षाबलों ने 619 आतंकियों को मार गिराया। वहीं, पिछली सरकार में यह आंकड़ा 471 था। राजनाथ सिंह ने कहा, उनकी सरकार में पूर्वोत्तर से घुसपैठ थमी है। पिछले 2 दशकों में यहां से होने वाली घुसपैठ की घटनाओं में 85 फीसदी तक की कमी आई है। राजनाथ एक दिन के दौरे पर लखनऊ पहुंचे थे। यहां उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस की।
शहादत की कीमत पैसे से नहीं लगा सकते
जवानों की शहादत को लेकर गृहमंत्री ने कहा, “यह सही है कि आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान हमारे जवान शहीद हुए हैं। जवानों की शहादत की कीमत पैसों से नहीं लगाई जा सकती। हालांकि, हमने शहीद जवानों के परिवार को दी जाने वाली आर्थिक मदद 50 लाख रुपए से बढ़ाकर एक करोड़ रुपए कर दी है।”
उन्होंने कहा कि आतंकी घटनाओं में जवानों और नागरिकों की मौतों की संख्या में 1997 के मुकाबले 2017 में 96 फीसदी की कमी आई है।
सुरक्षाबलों के हाथों को नहीं बांधा
सिंह ने कहा, “कश्मीर में आतंकियों के साथ सीजफायर नहीं हुआ है। केवल रमजान के दौरान हमने ऑपरेशन बंद किया है। मैं ये बात स्पष्ट बता दूं कि कहीं भी आतंकी घटना होती है तो हम ऑपरेशन फिर से शुरू करेंगे। हमने सुरक्षाबलों के हाथ कभी नहीं बांधे।”
चार सालों में नक्सलवाद की घटनाओं में भी कमी आई
गृह मंत्री ने कहा, “1997 से लेकर 2017 तक की बता करें तो घुसपैठ की घटनाओं में 85 फीसदी कमी आई है। वहीं, नक्सली घटनाएं भी काफी कम हुईं हैं। चार सालों में देश भर में 1,481 नक्सली घटनाएं सामने आईं हैं, जो पिछली सरकार के चार साल के दौरान 2,418 थीं। वर्ष 2013 में नक्सलवाद देश के 76 जिलों में फैला था, लेकिन पिछले चार वर्षों में यह 58 जिलों तक सिमट गया है।”
योगी की तारीफ की
राजनाथ सिंह ने योगी आदित्यनाथ की तारीफ की। उन्होंने कहा योगी जी ने पूरी ईमानदारी और साफ नीयत के साथ काम किया। उन्होंने यहां विकास और सुशासन की जमीन तैयार करने की पूरी कोशिश की है। यहां योगी के नेतृत्व में भाजपा सरकार के बनने के बाद से गुंडे-बदमाशों में दहशत बनी है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »