Fortis हेल्थकेयर बोर्ड ने दी संयुक्त अधिग्रहण के प्रस्ताव को मंजूरी

नई दिल्ली। कड़ी मशक्कत के बाद Fortis हेल्थकेयर के बोर्ड ने हीरो एंटरप्राइज के सुनील कांत मुंजाल और डाबर समूह के बर्मन परिवार की ओर से संयुक्त अधिग्रहण के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। टीपीजी समर्थित मणिपाल हॉस्पिटल्स, आईआईएच हेल्थकेयर और रेडियंट लाइफकेयर-के के आर भी Fortis हेल्थकेयर के अधिग्रहण की होड़ में थे।
Fortis बोर्ड के अनुसार, ‘बोर्ड ने हर आफॅर पर काफी चर्चा के बाद हीरो एंटरप्राइज इन्वेस्टमेंट ऑफिस और बर्मन परिवार की ओर से आए अधिग्रहण प्रस्ताव पर शेयरधारकों की मंजूरी प्राप्त करने का फैसला लिया है।’
कपंनी ने अपने बयान में कहा कि यह निर्णय गुरुवार शाम को एक मैराथन मीटिंग के बाद आया जिसमें प्रस्तावों पर विचार करने के लिए बोर्ड की ओर से पिछले महीने गठित सलाहकार समिति की सिफारिशों पर गौर करने के बाद ही यह निर्णय लिया गया। हीरो एंटरप्राइज और डाबर समूह के बर्मन परिवार ने Fortis हेल्थकेयर में इक्विटी और वॉरंट्स के जरिए 1800 करोड़ का सीधा निवेश करने का ऐलान किया है। यदि सभी वॉरंट्स को शेयरों में परिवर्तित करने पर फोर्टिस हेल्थकेयर में इन दोनों समूहों की हिस्सेदारी 16.80% हो जाएगी। हांलाकि सूत्रों का कहना है कि बोर्ड अपने निर्णय में बंटा हुआ था। बोर्ड के पुराने सदस्य तो इस निर्णय के पक्ष में थे लेकिन नव-नियुक्त सदस्य संतुष्ट नहीं दिखे।
शेयरहोल्डर्स की सहमति
सुवालक्ष्मी चक्रबर्ती, रवी राजगोपाल, इन्द्रजीत बनर्जी को हाल ही में Fortis बोर्ड में शामिल किया गया था जिन्हें माइनॉरिटी शेयरहोल्डर्स के समूह ईस्ट ब्रिज कैपिटल और जूपिटर ऐसेट मैनेजमेंट ने नॉमिनेट किया था। इसी समूह ने तत्कालीन निदेशक ब्रायन टेंपेस्ट, तेजिंदर शेरगिल, सबीना वैसोहा और हरपाल सिंह को बोर्ड से बाहर करने की सिफारिश की थी। Fortis शेयरहोल्डर्स को इस निर्णय का समर्थन करना होगा। मुंजाल ने कहा, ‘हमें खुशी है कि बोर्ड ने हमारे प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया जो वाकई सर्वोत्तम है। हमें यकीन है कि हमारा प्रस्ताव शेयरहोल्डर्स को भी अच्छा लगेगा और इससे उनका हमारे ऊपर विश्वास बढ़ेगा।’
मुंजाल लुधियाना में दयानंद मेडिकल कॉलेज की अगुवाई करते है, वहीं बर्मन परिवार ने भी हेल्थकेयर के क्षेत्र में बड़े पैमाने पर कारोबार फैला रखा है, जिसमें डाबर फार्मा, हेल्थकेयर ऐट होम और आनॅक्वेस्ट शामिल हैं। आनंद बर्मन ने कहा, ‘Fortis हेल्थकेयर सेक्टर की प्रमुख कंपनी है जिसकी देशभर में फैली हुई है। उम्मीद है कि हम कंपनी को उसके मकसद हासिल करने में मदद कर सकेंगें।’ तत्कालीन कार्ययोजना के तहत कंपनी को अपनी विशेषताओं पर कायम रहना होगा, अच्छे कर्मचारियों को जोड़े रखना होगा, कारोबार को विस्तार देना होगा और Fortis की संस्थागत कार्यप्रणाली में सुधार करना होगा।’
टीपीजी मणिपाल, आईआईएच हेल्थकेयर, रेडियंट लाइफकेयर-केकेआर पिछले 18 महीनों से इस डील के लिए Fortis के चक्कर काट रहे थे, लेकिन इस साल के शुरुआती महीनों तक कोई ठोस डील फोर्टिस को ऑफर नहीं की थी। मुंजाल-बर्मन ने पिछले महीने में ही टीपीजी मणिपाल, आईआईएच हेल्थकेयर, रेडियंट लाईफकेयर-केकेआर के ऑफर्स पर बढ़त हासिल कर ली।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »