CWC की बैठक में पीएम मोदी पर निशाना साधा पूर्व पीएम मनमोहन ने

नई दिल्ली। अपनी खामोशी के लिए विरोधियों की आलोचनाएं झेलने वाले पूर्व पीएम और अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह रविवार को पीएम मोदी के खिलाफ मुखर दिखे। कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) की बैठक में मनमोहन सिंह ने आत्ममुग्धता और जुमलेबाजी को लेकर पीएम मोदी पर निशाना साधा। पूर्व पीएम ने किसानों की आय दोगुना करने के वादे पर कहा है कि कृषि में 14 फीसदी की विकास दर हासिल किए बिना यह संभव नहीं है।
रविवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने नव नियुक्त CWC की बैठक बुलाई। इस बैठक की जानकारी देते हुए कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने बताया कि मनमोहन सिंह ने विकास के लिए मजबूत पॉलिसी फ्रेमवर्क बनाने की बजाय जुमलेबाजी को लेकर पीएम मोदी पर निशाना साधा।
सुरेजावाला ने बताया कि बैठक में राहुल गांधी ने पीड़ितों के हक में लड़ने और आवाज उठाने के लिए कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का आह्वान किया। इसी दौरान पूर्व पीएम ने 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने के मोदी सरकार के वादे पर भी टिप्पणी की। मनमोहन सिंह ने कहा कि अगर 2022 तक हमें किसानों की आय को दोगुना करना है तो कृषि में 14 फीसदी की विकास दर होनी चाहिए जिसकी फिलहाल कोई संभावना नहीं दिख रही। आपको बता दें कि इस साल वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 2018 के लिए पेश किए गए आर्थिक सर्वे में कृषि क्षेत्र में 2.1 फीसदी विकास दर का अनुमान जताया था।
पिछले दिनों मोदी सरकार ने किसानों के लिए खरीफ की 14 फसलों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) बढ़ाने का फैसला किया था। इसके बाद पीएम मोदी के नेतृत्व में बीजेपी इसका जोरशोर से प्रचार करने में जुटी है। बीजेपी का कहना है कि पीएम मोदी ने किसानों से किया गया वादा पूरा किया है। ऐसे में मनमोहन सिंह की इस टिप्पणी को बीजेपी के प्रचार के काट के तौर पर भी जोड़कर देखा जा रहा है।
रविवार को राहुल गांधी के नेतृत्व में हुई कांग्रेस की इस उच्च स्तरीय बैठक में पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के अलावा, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, एके एंटनी, मोतीलाल वोरा, गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खड़गे और अशोक गहलोत जैसे वरिष्ठ कांग्रेसी नेता मौजूद थे। पिछले शुक्रवार को मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव गिर जाने के बाद पार्लियामेंट एनेक्सी में कांग्रेस की इस अहम बैठक का आयोजन किया गया था।

बनाई 300 सीटों की रणनीति
बैठक में भारत की ग्रैंड ओल्ड पार्टी ने 2019 के चुनावों की रणनीति पर चर्चा की। सूत्रों के हवाले से जो खबर निकल कर आ रही है कि उसके मुताबिक कांग्रेस ने लोकसभा की 300 सीटों पर जीत की रणनीति बनाई है। इस बैठक में एनडीए के खिलाफ रणनीतिक गठबंधन की बात कही गई लेकिन नेताओं ने शर्त रखी कि इसका नेतृत्व राहुल गांधी को और इसके केंद्र में कांग्रेस होनी चाहिए।
चिदंबरम ने बताया 300 सीटों का फॉर्म्युला
सूत्रों के मुताबिक पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने 2019 की चुनावी रणनीति के लिए एक प्रस्ताव पेश किया। चिदंबरम ने कहा कि 12 राज्यों में कांग्रेस मजबूत है और अगर पार्टी अपनी क्षमताओं में 3 गुना इजाफा करे तो 150 सीटें जीती जा सकती हैं। इसके अलावा अन्य राज्यों में गठबंधन की मदद से कांग्रेस 150 और सीटें जीत सकती है। एक तरह से पी चिदंबरम ने मोटा-मोटी 300 सीटों पर जीत का फार्म्युला देने की कोशिश की।
रणनीतिक गठबंधन हो, केंद्र में कांग्रेस रहे और राहुल चेहरा बनें
कांग्रेस वर्किंग कमेटी में 2019 के लिए रणनीतिक गठबंधन बनाने पर चर्चा हुई। सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस नेता सचिन पायलट, शक्ति सिंह गोहिल, रमेश चेन्नीथला ने बैठक में कहा कि इस गठबंधन के केंद्र में कांग्रेस होनी चाहिए और राहुल गांधी को इसका चेहरा होना चाहिए।
सोनिया गांधी बोलीं, मोदी सरकार की उल्टी गिनती शुरू
CWC की बैठक में शामिल हुईं यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी भी मोदी सरकार पर हमलावर दिखीं। सोनिया गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भाषण-शैली से उनकी मायूसी जाहिर होती है जो इस बात का सूचक है कि मोदी सरकार की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है।
राहुल ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं का किया आह्वान
सीडब्ल्यूसी बैठक को संबोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बीजेपी पर गरीबों व दलितों का दमन करने का आरोप लगाया और पार्टी कार्यकर्ताओं से देश के गरीबों के लिए लड़ने का आग्रह किया। राहुल गांधी नई कांग्रेस कार्यकारिणी समिति (सीडब्ल्यूसी) की पहली बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। सीडब्ल्यूसी की बैठक को संबोधित करते हुए राहुल ने कांग्रेस को ‘भारत की आवाज’ बताते हुए कहा कि पार्टी पर भविष्य व वर्तमान की जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि सीडब्ल्यूसी के पास अनुभव व ऊर्जा है और यह अतीत, वर्तमान व भविष्य के बीच एक सेतु है।
जनार्दन द्विवेदी और दिग्विजय सिंह बैठक से रहे गायब
सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस के सबसे वरिष्ठ नेताओं में से एक जनार्दन द्विवेदी और दिग्विजय सिंह सीडब्ल्यूसी की बैठक में शामिल नहीं हुए। पिछले दिनों राहुल गांधी ने इन दोनों नेताओं को नई गठित हुई CWC में शामिल नहीं किया था। हालांकि इन दोनों नेताओं को बैठक में शामिल होने के लिए निमंत्रण भेजा गया था।
आपको बता दें कि सीडब्ल्यूसी कांग्रेस पार्टी में सबसे महत्वपूर्ण फैसले लेने वाला अंग है। सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह नई कांग्रेस कार्यकारिणी समिति में वरिष्ठ सदस्य हैं। यही समिति इस साल होने वाले राज्यों के विधानसभा चुनावों के साथ-साथ 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी की कोर टीम का गठन करेगी।
राहुल गांधी ने ने पिछले दिनों 51 सदस्यीय कार्य समिति का गठन किया था जिसमें 23 सदस्य, 18 स्थाई आमंत्रित सदस्य और 10 विशेष आमंत्रित सदस्य शामिल किए गए हैं। पिछले साल दिसंबर में कांग्रेस की कमान संभालने वाले गांधी ने नई कार्य समिति में अनुभवी और युवा नेताओं के बीच संतुलन बनाने की कोशिश की है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »