पूर्व लेग स्पिनर अब्दुल कादिर ने मैच फिक्सिंग में वसीम-वकार और इंजमाम का नाम लिया

Former Pakistan leg-spinner Abdul Qadir has named Wasim-Waqar and Inzamam in match-fixing
पूर्व लेग स्पिनर अब्दुल कादिर ने मैच फिक्सिंग में वसीम-वकार और इंजमाम का नाम लिया

पाकिस्तान के पूर्व दिग्गज लेग स्पिनर अब्दुल कादिर ने मैच फिक्सिंग मामले को लेकर एक बयान देकर पाकिस्तान क्रिकेट में सनसनी मचा दी है।

अब्दुल कादिर टीवी चैनल पर पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) में स्पॉट फिक्सिंग में फंस रहे क्रिकेटर्स से जुड़े सवाल पर जवाब दे रहे थे। हाल ही में दुबई और पाकिस्तान में खेली गई पीएसएल लीग में पाकिस्तान के खालिद लतीफ, शारजील खान, मोहम्मद इरफान, नासिर जमशेद और शाहजैब हसन समेत 5 क्रिकेटर्स स्पॉट फिक्सिंग में सस्पेंड हो चुके हैं। पीएसएल पाकिस्तान की घरेलू लीग है और इस लीग के दौरान यहां कई क्रिकेटर्स स्पॉट फिक्सिंग के मामले में फंसे हैं।

पाकिस्तान क्रिकेट में फिक्सिंग की सामने आना कोई नई बात नहीं है। लेकिन जब एक क्रिकेटर दूसरे खिलाड़ियों पर फिक्सिंग करने का आरोप लगाए तो फिर मामला गंभीर हो जाता है। इस बार पाकिस्तान के इस पूर्व दिग्गज स्पिन गेंदबाज़ कादिर ने एक टीवी चैनल पर कहा कि वसीम अकरम, वकार यूनिस, इंजमाम उल हक और मुश्ताक अहमद मैच फिक्सिंग करते थे। कादिर ने कहा कि इन्हीं खिलाड़ियों की वजह से 90 के दशक के अंतिम सालों में पाकिस्तान क्रिकेट में मैच फिक्सिंग ने पाक क्रिकेट में दस्तक दी। कादिर ने कहा कि अगर ठीक समय पर इन खिलाड़ियों को फांसी पर लटका दिया होता, तो मैच फिक्सिंग वहीं रुक जाती।

गौरतलब है कि अब्दुल कादिर ने जिन पूर्व खिलाड़ियों पर फिक्सिंग करने का आरोप लगाया है वो सभी के सभी पाकिस्तान को बहुत से मैचों में जीत दिला चुके हैं। वसीम अकरम, वकार यूनिस पाकिस्तान के तेज़ गेंदबाज़ रहे, तो इंजमाम उल हक बल्लेबाज़ थे और मुश्ताक अहमद एक स्पिन गेंदबाज़ थे। इनमें से तीन खिलाड़ी तो पाकिस्तान के लिए अलग-अलग समय पर कप्तानी भी कर चुके हैं। ये चारों ही दिग्गज पाकिस्तान के लिए 90 के दशक में खेलते थे। तो ऐसे में कादिर के इन खिलाड़ियों पर ये बड़ा आरोप लगाने के पीछे कोई तो वजह होगी।

एक इंग्लिश अखबार की एक खबर के मुताबिक, अपने इस बयान में कादिर यहीं नहीं रुके उन्होंने कहा कि मैच फिक्सिंग में शामिल रहे पाकिस्तानी क्रिकेटरों में अकरम, इंजमाम और मुश्ताक समेत लंबी-चौड़ी फेहरिस्त है। अगर इन क्रिकेटर्स को फांसी दी होती, तो आज पाकिस्तान क्रिकेट में मैच फिक्सिंग थम गई होती।

इस पूर्व क्रिकेटर ने कहा कि मैच फिक्सिंग मामले पर आई जस्टिस मलिक मुहम्मद खय्याम की रिपोर्ट को अब तक लागू क्यों नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि वसीम, वकार, इंजमाम और मुश्ताक समेत पीसीबी में अब कार्यरत या पीसीबी से पहले जुड़े अधिकारी क्यों ने जस्टिस खय्याम की सिफारिशों को लागू क्यों नहीं करते।
-Agency

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *