पूर्व विधायक के बेटे की हत्‍या करने वाले आत्मसममर्पण करने से पहले गिरफ्तार

लखनऊ। हजरतगंज चौराहे के पास पूर्व विधायक जिप्पी तिवारी के इकलौते बेटे वैभव की हत्या करने वाले प्रॉपर्टी डीलर सूरज शुक्ला और हिस्ट्रीशीटर विक्रम सिंह को मंगलवार दोपहर आत्मसममर्पण के दौरान पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। एसएसपी दीपक कुमार ने दोनों आरोपियों पर 20-20 हजार रुपये का इनाम घोषित किया था।
मंगलवार को वकील के जरिये दोनों इनामी अपराधियों द्वारा आत्मसमर्पण की तैयारी की भनक लगने पर पुलिस-क्राइम ब्रांच ने लोकेशन ट्रेस करके उन्हें पकड़ने के लिए जाल बिछाया था।
दोपहर दो बजे के करीब जैसे ही वकीलों के साथ दोनों आरोपी कोर्ट पहुंचे, पुलिस ने उन्हें दबोच लिया। एडीजी कानून-व्यवस्था के समक्ष दोनों को पेश कर पूछताछ की जा रही है।
मालूम हो कि राजधानी लखनऊ के हाईसिक्योरिटी जोन वाले हजरतगंज चौराहे पर शनिवार रात भाजपा से तीन बार विधायक रहे प्रेम प्रकाश उर्फ जिप्पी तिवारी के इकलौते बेटे वैभव तिवारी (30) की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वैभव डुमरियागंज के दमुआपुर, गांव का प्रधान था। रात करीब नौ बजे उसके परिचित सूरज शुक्ला ने फोन कर चौराहे पर बुलाया। किसी बात पर दोनों में झगड़ा हुआ तो सूरज के दोस्त और हिस्ट्रीशीटर विक्रम ने पिस्टल निकालकर वैभव के सीने में गोली मार दी थी।
वैभव की हत्या के बाद इसी रात पुलिस ने सूरज के अर्जुनगंज खुर्दही बाजार स्थित घर पर दबिश देकर वहां रखे 30 लाख रुपये जब्त कर लिए थे। इस रकम का सूरज के परिवारीजन अब तक कोई लेखा-जोखा नहीं दिखा सके हैं।
इन दोनों की गिरफ्तार के बाद एसएसपी दीपक कुमार ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि मोबाइल के सर्विलांस में लगे होने से ये अंदाजा लगाया जा रहा था कि आरोपी कोर्ट में सरेंडर कर सकते हैं। रिश्तेदारों से भी पूछताछ चल रही थी। सूरज के घर से तीस लाख रुपए बरामद किए गए थे। इसे देखते हुए कोर्ट में पुलिस टीम सोमवार से लगी हुई थी। आज जब ये कोर्ट पहुंचे तो इन्हें अरेस्ट किया गया। मामले की गहराई से जांच की जा रही है। कोर्ट से सात दिन की रिमांड पर लेने का प्रयास किया जा रहा है।
-एजेंसी