DRDO के पूर्व चीफ ने कहा, मोदी की हिम्‍मत से भारत बना सुपर पॉवर

नई दिल्‍ली। DRDO के पूर्व चीफ वी के सारस्वत ने मिशन शक्ति को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की। उन्होंने बताया, डॉ. सतीश रेड्डी और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने जब यह प्रस्ताव प्रधानमंत्री मोदी के सामने रखा था, उनके अंदर हिम्मत थी इसलिए उन्होंने इसे मंजूरी दी। हमें यूपीए सरकार से सकारात्मक जवाब नहीं मिला। अगर 2012-2013 में मिशन की मंजूरी मिल जाती तो यह 2014-15 में ही लॉन्च हो जाता।
इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने बुधवार को राष्ट्र के नाम संबोधन दिया। उन्होंने बताया, “भारत ने तीन मिनट में अंतरिक्ष में लो अर्थ ऑर्बिट (एलईओ) में सैटेलाइट को मार गिराया। यह उपलब्धि हासिल करने वाला भारत दुनिया का चौथा देश बन गया है।” हालांकि, मोदी के इस संबोधन को लेकर विपक्षी दलों ने निशाना साधा।
राहुल ने मोदी पर कसा तंज
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मिशन शक्ति की सफलता पर डीआरडीओ की तारीफ की। हालांकि, उन्होंने मोदी पर तंज कसा। राहुल ने ट्वीट किया, “वेल डन डीआरडीओ, आपकी इस उपलब्धि पर हमें बहुत गर्व है। मैं प्रधानमंत्री को वर्ल्ड थिएटर डे की बहुत-बहुत बधाई देना चाहता हूं।”
कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने कहा कि जिस एएसएटी मिशन का आज सफलता पूर्वक परीक्षण हुआ है, वह यूपीए सरकार में शुरू हुआ था। मैं अंतरिक्ष वैज्ञानिकों और डॉ. मनमोहन सिंह के दूरदर्शी नेतृत्व को बधाई देता हूं।
मोदी की कॉन्फ्रेंस पर संज्ञान ले आयोग: मायावती
बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट किया, “भारतीय रक्षा वैज्ञानिकों द्वारा अंतरिक्ष में सैटेलाइट मार गिराए जाने का सफल परीक्षण करके देश का सर ऊंचा करने के लिए अनेक-अनेक बधाई। लेकिन इसकी आड़ में मोदी द्वारा चुनावी लाभ के लिए राजनीति करना अति-निन्दनीय है। चुनाव आयोग को इस पर सख्त संज्ञान अवश्य लेना चाहिए।
वैज्ञानिकों को करनी थी घोषणा: ममता
प बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, यह राजनीतिक ऐलान था, वैज्ञानिकों को यह घोषणा करनी थी। यह उनका क्रेडिट है। केवल एक सैटेलाइट नष्ट की गई, इसकी जरुरत नहीं थी। ये काफी समय से वहां था। यह वैज्ञानिकों का विशेषाधिकार था कि इसे कब करना है। हम इसकी शिकायत चुनाव आयोग से करेंगे।
असल मुद्दों से ध्यान भटका रहे मोदी: अखिलेश
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट किया, आज मोदी अपने आप को एक घंटे टीवी पर दिखकर आकाश की ओर इशारा करके राष्ट्र के जमीनी मुद्दों बेरोजगारी, महिला सुरक्षा और ग्रामीण हालत से जनता का ध्यान भटका रहे हैं।
जेटली ने कहा, झूठी पीठ थपथपा रहे हैं कांग्रेस
वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा, “आज हमारे देश के लिए एतिहासिक दिन है। हमारे वैज्ञानिकों के लिए विशेष रूप से जिन्होंने आज वो क्षमता हासिल की, जो सिर्फ 3 देशों के पास है। ये क्षमता एंटी मिसाइल की, जो ऑर्बिट में किसी भी सैटेलाइट को टारगेट करने की क्षमता रखते हैं। इसके लिए सभी वैज्ञानिक और शोध की संस्थाएं सभी अभिनंदन के पात्र हैं। ये बहुत समय से हमारे वैज्ञानिकों की इच्छा रही थी, उनका कहना था कि उनके पास ऐसी क्षमताएं हैं, लेकिन भारत सरकार हमें अनुमति नहीं देती इसलिए हम इस ताकत को बनाने में असमर्थ हैं।
जेटली ने कहा, “कुछ कांग्रेसी मित्र जो अपनी पीठ थपथपा रहे हैं। जब अग्नि 5 लॉन्च हुआ था, अप्रैल 2012 में इसकी घोषणा हुईं। डीआरडीओ के जनरल डायरेक्टर वीके सारस्वत ने कहा कि हममें वो क्षमता है कि एंटी सैटेलाइट मिसाइल तैयार करें, लेकिन सरकार परमिशन नहीं देती। इसकी पूरी प्रक्रिया 2014 के बाद शुरू हुई, जब प्रधानमंत्री ने अनुमति दी और हमारे वैज्ञानिकों ने इसे अंतिम रूप दिया।”
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *