रामलला के फाइबर मंदिर की स्‍थापना के लिए नए परिसर में हुआ अनुष्‍ठान

अयोध्‍या। अयोध्या के राम जन्मभूमि परिसर में जहां नए फाइबर के मंदिर में रामलला को शिफ्ट करना है, वहां शुद्धिकरण को लेकर अनुष्ठान किया गया।
नया अस्थायी मंदिर तैयार हो गया है, जिसमें नवरात्रि के पहले दिन 25 मार्च को रामलला को टेंट में से निकालकर शिफ्ट किया जाएगा।
शुद्धिकरण अनुष्ठान टेंट के मंदिर में जहां रामलला विराजमान है वहां और जहां उनको स्थापित करना है, दोनों स्थानों पर किया गया। इसमें करीब दो दर्जन विद्वान पंडित शामिल हुए, जिन्होंने पूरे विधि-विधान से अनुष्ठान करवाया। अयोध्या में फाइबर का नया अस्थायी मंदिर तैयार हो गया है, जिसमें नवरात्रि के पहले दिन 25 मार्च को रामलला को टेंट में से निकालकर शिफ्ट किया जाएगा।
नए आसन का शुद्धिकरण और स्थापना अनुष्ठान
प्रयाग, काशी, दिल्ली, मथुरा और अयोध्या के वैदिक पंडितों द्वारा पूर्ण विधि-विधान से पूजन अर्चन किया गया। रामलला को नवीन सिंहासन पर प्रतिष्ठित कर अस्थायी मंदिर में प्रतिस्थापित करने की यह एक प्रक्रिया है।
स्थायी मंदिर बनने तक करेंगे आसन ग्रहण
इसके लिए कई तरह की पूजा पद्धति अपनाई गई है। इससे नए स्थल को जागृत करते हुए रामलला से प्रार्थना की गई है कि जब तक स्थायी मंदिर न बन जाए तब तक इस स्थल पर आसन ग्रहण करें।
रामलला से की गई प्रार्थना
वही टेंट के मंदिर में रामलला से नए अस्थायी मंदिर में चलने के लिए प्रार्थना की गई।
चांदी का सिंहासन हुआ भेंट
राजघराने के ट्रस्टी विमलेन्द्र मोहन प्रताप मिश्र ने जयपुर से चांदी का सिंहासन बनवा कर भेंट किया है।
राम मंदिर निर्माण के प्रथम चरण का श्रीगणेश
इस अनुष्ठान के साथ ही श्रीरामजन्मभूमि मन्दिर निर्माण के प्रथम चरण का श्रीगणेश कर दिया।
सीएम योगी को करना है प्राण प्रतिष्ठा का कार्य
रामलला की नए अस्थायी मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा का कार्य सीएम योगी आदित्यनाथ को करना है लेकिन अभी तक उनका कार्यक्रम तय नहीं हुआ है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »