उप्र के 5 Policemen को 10 साल की जेल, 25 लाख जुर्माना

नोएडा। दिल्ली की एक अदालत ने हिरासत में हुई मौत के मामले में उत्तर प्रदेश पुलिस के पांच Policemen को 10 साल की जेल की सजा सुनाई है। इसी मामले में अदालत ने एक अन्य को 3 साल की सजा सुनाई है। अदालत ने दोषी ठहराए गए सभी Policemen पर कुल 25 लाख का जुर्माना भी लगाया है जबकि छठे दोषी पर एक लाख का जुर्माना किया है।

वर्ष 2006 में खुर्जा निवासी प्रॉपर्टी डीलर को साजिश के तहत एसओजी की टीम ने गिरफ्तार किया था और झूठे मुकदमे में फंसाकर हवालात में जमकर मारपीट की थी।

इस दौरान निठारी चौकी की हवालात में सोनू की मौत हो गई थी। इसके बाद सोनू के पिता मामले को सुप्रीम कोर्ट तक ले गए। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर इस मामले की दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में सुनवाई चल रही थी। सोमवार को तीस हजारी कोर्ट ने सब इंस्पेक्टर हिंदवीर सिंह, महेश मिश्रा और सिपाही प्रदीप, पुष्पेंद्र व हरिपाल को दोषी करार दिया। दरअसल, वर्ष 2006 में यह घटना पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय बनी थी।

उस समय पुलिस की स्पेशल टीम होती थी जिसे एसओजी के नाम से जाना जाता था। यह टीम बड़ी घटनाओं व संगठित अपराध पर काम करती थी, लेकिन उस वक्त एसओजी टीम पर आरोप लगने लगा था कि टीम सुपारी किलर हो गई है। किसी को भी फर्जी मुकदमे में फंसाना और वसूली करना उसका पेशा बन गया था।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »