गौ-सदन में धांधली पर Maharajganj के डीएम समेत 5 अफसर निलंबित

महाराजगंज। गौवंशों की संख्या को लेकर कागजों में ही खेल कर देने वाले Maharajganj के डीएम अमर नाथ उपाध्याय समेत पांच अफसर निलंबित कर द‍िए गए हैं , इन सभी पर अब एफआईआर भी दर्ज की जाएगी। डीएम पर कार्यवाही के बाद आईएएस उज्जवल कुमार को Maharajganj का जिलाधिकारी बनाया गया है।

यहां गौ-सदन में बड़े पैमाने पर अनियमितता का मामला सामने आया है। कागजों में 25 सौ गोवंशों की मौजूदगी दर्शायी गई लेकिन जब भौतिक सत्यापन किया गया तो 954 ही मिले। बावजूद इसके खर्चे में कटौती नहीं की गई। इसके अलावा करीब 300 एकड़ जमीन को किसानों व फर्मों को दे दी गई।

इस पर शासन ने सोमवार को डीएम अमर नाथ उपाध्याय, एसडीएम निचलौल सत्यम मिश्रा व उप मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर वीके मौर्य व मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर राजीव उपाध्याय को निलंबित कर दिया है। साथ ही एफआईआर के भी आदेश दिए गए हैं। डीएम पर कार्यवाही के बाद आईएएस उज्जवल कुमार को महाराजगंज का जिलाधिकारी बनाया गया है।

अपर आयुक्त की टीम ने की जांच

मुख्य सचिव आरके तिवारी ने बताया कि मधलिया के गौ-सदन में अनियमितता का मामला सामने आने के बाद अपर आयुक्त गोरखपुर मंडल की अध्यक्षता में गठित कमेटी ने जांच की थी। कमेटी ने रिपोर्ट दी है कि कोई भी अधिकारी अपनी स्थिति स्पष्ट नहीं कर सका। जिले के अधिकारियों ने संतोषजनक तरीके से कार्य भी नहीं किया। गौवंश की संख्या कम होने के बाद भी व्‍यय में कोई कमी नहीं की गई। इससे पता चलता है कि गंभीर अनियमितता की गई है।

कमेटी के अध्यक्ष हैं डीएम
कमेटी ने बताया कि वन विभाग से 500 एकड़ जमीन लेकर पशुपालन विभाग को दे दी गई थी लेकिन 300 एकड़ जमीन लीज पर निजी व्यक्तियों को दी गई। इसकी न किसी से अनुमति ली गई, न ही कोई विधिक प्रक्रिया अपनाई गई। यह भी एक वित्तीय अनियमितता है। जिला गौ-सदन मधवलिया की प्रबंधक कार्यकारिणी में डीएम अध्यक्ष व एसडीएम निचलौल सदस्य नामित हैं। इन सभी दोषी अधिकारियों पर अनुशासनात्मक कार्यवाही भी होगी।
– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »