डिजिटल मीडिया एथिक्स कोड के तहत दर्ज हुई पहली शिकायत

मुंबई। लंबे समय तक इंडियन OTT में सेंसर बोर्ड जैसी कोई कमेटी नहीं थी। हालांकि 2021 की शुरुआत में चीजें बदल गईं जब सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने इन्फॉर्मेशन रूल्स 2021 (गाइड लाइन्स फॉर इंटरमीडियरीज एंड डिजिटल मीडिया एथिक्स कोड) बनाए। इसके तहत इंडियन स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म्स को दर्शकों की शिकायतों को दूर करने के लिए एक मैकेनिज्म स्थापित करने के लिए कहा गया था।
क्या, क्यों, कैसे और कब
इस एथिक्स कोड को लागू हुए कुछ महीने ही हुए हैं और इसी हफ्ते मंगलवार को नेटफ्लिक्स इंडिया से शिकायत की शुरुआत हुई। नेटफ्लिक्स इंडिया को 2020 की एन्थ्रोलॉजी घोस्ट स्टोरीज में अनुराग कश्यप की शॉर्ट फिल्म मेड इन हेवन और एक्ट्रेस शोभिता धूलिपाला के खिलाफ शिकायत मिली। जिस दृश्य के कारण शिकायत हुई, उसमें एक्ट्रेस ने मिसकैरेज होने के बाद अपने ही भ्रूण को खा लिया था।
शिकायत में लिखा है, “कहानी के लिए इस सीन की जरुरत ही नहीं है, और यदि मेकर्स इस तरह के दृश्य को जोड़ना चाहते हैं, तो गर्भपात के आघात से पीड़ित महिलाओं के लिए एक ट्रिगर चेतावनी होनी चाहिए थी।”
24 घंटे के भीतर करना होगा समाधान
रिपोर्ट के मुताबिक दर्शकों की शिकायतों को 24 घंटे के भीतर दर्ज करना होगा और जल्द से जल्द उनका समाधान करना होगा। शिकायत अब नेटफ्लिक्स के शिकायत निवारण अधिकारी (GRO) के पास है। नेटफ्लिक्स के एक प्रवक्ता ने बताया- “चूंकि यह एक पार्टनर-मैनेज्ड प्रोडक्शन (RSPV मूवीज और फ्लाइंग यूनिकॉर्न एंटरटेनमेंट) था इसलिए हम शिकायत शेयर करने के लिए प्रोडक्शन कंपनी के पास पहुंचे हैं।”
गौरतलब है कि घोस्ट स्टोरीज़ जनवरी 2020 में रिलीज़ हुई थी। इसमें ज़ोया अख्तर, अनुराग कश्यप, दिबाकर बनर्जी और करण जौहर द्वारा निर्देशित चार लघु फ़िल्में शामिल थीं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *