पहले बसपा फ‍िर सपा से राजनैत‍िक संबंध रहा है हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का

कानपुर। बिठूर के विकरू गांव में हुई 8 पुलिसकर्मियों की नृशंस हत्या के बाद प्रदेश में सरकार पर सियासी वार करने वाली समाजवादी पार्टी ही अब कठघरे में आ गई है।

अभी तक समाजवादी पार्टी के अख‍िलेश यादव और कांग्रेस ने योगी सरकार को कठघरे में खड़ा किया है और कहा है कि इस घटना की जिम्मेदारी योगी सरकार की ही है। उन्हीं के राज में प्रदेश के अंदर गुंडाराज चरम पर है और समाज के रखवाले ही गुंडाराज का शिकार हो रहे हैं लेकिन इस मामले में नया मोड़ तब आ गया जब हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे की पत्नी का एक पोस्टर सामने आया, जिसमें उसका कनेक्शन समाजवादी पार्टी से सीधे तौर पर दिखाई दे रहा है।

विकास दुबे की पत्नी के पोस्टर में यादव परिवार
यूपी पुलिस के 8 पुलिसकर्मियों की हत्या करके फरार विकास दुबे को लेकर समाजवादी पार्टी इस वक्त सरकार को भले ही घेर रही है लेकिन विकास दुबे की पत्नी रिचा दुबे का एक पोस्टर अलग ही कहानी कह रहा है। ये पोस्टर उस वक्त का है, जब रिचा दुबे घिमऊ से जिला पंचायत सदस्य का चुनाव लड़ रही थीं। जिला पंचायत सदस्य पद की दावेदार रिचा दुबे को उस वक्त समाजवादी पार्टी का समर्थन प्राप्त था। उसके पोस्टर में मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव की तस्वीरें भी साफ दिखाई दे रही हैं।

कानून मंत्री बृजेश पाठक ने समाजवादी पार्टी को दिया जवाब

मामले पर राजनीतिक बयान देने को लेकर कानून मंत्री बृजेश पाठक ने समाजवादी पार्टी को जवाब दिया है। उन्होंने कहा है कि जो लोग इस मामले के BJP से अपराधियों की गठजोड़ की बात कह रहे है, कनेक्शन उन्हीं का निकलेगा।

उन्होंने कहा कि एसपी के DNA में ही अपराध है। इस बार अपराधी का कोई भी कनेक्शन क्यों न हो, वो बच नहीं पाएगा। कानून मंत्री ने ये भी कहा कि पूरे मामले की जांच होगी। रेड में गए पुलिस वालों की कम संख्या पर भी, और अगर इसमें किसी स्तर पर कोई कमी हुई है, तो उस पर भी जांच की जाएगी।

इसके अलावा उसका ब्राह्मण शिरोमणि पंडित विकास दुबे के नाम से फेसबुक पेज भी है।

बसपा सरकार के संपर्क से नगर पंचायत चुनाव जीता

2002 में जब प्रदेश में बसपा सरकार थी तो विकास का खौफ बिल्हौर, शिवराजपुर, रिनयां और चौबेपुर के साथ ही कानपुर नगर में भी था। 2018 में विकास ने चचेरे भाई अनुराग पर जानलेवा हमला किया था। 2004 में केबल कारोबारी दिनेश दुबे की हत्या के मामले में भी विकास आरोपी है। जेल से ही उसने शिवराजपुर से नगर पंचायत का चुनाव जीत लिया। इसकी गिरफ्तारी पर 25 हजार का इनाम है।
– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *