वित्त मंत्रालय बेचेगा Axis Bank और आईटीसी की अपनी हिस्‍सेदारी

नई दिल्‍ली। वित्त मंत्रालय शीघ्र ही Axis Bank और आईटीसी में अपनी हिस्सेदारी को बेचने पर विचार कर रहा है। इन दोनों निकायों में सरकार ने एसयूयूटीआई के माध्यम से शेयर हासिल किए हैं।
सितंबर के अंत में स्पेसिफाइड अंडरटेकिंग आफ यूनिट ट्रस्ट्र आफ इंडिया (एसयूयूटीआई) के एक्सिस बैंक में 9.63 प्रतिशत शेयर, आईटीसी में 7.97 प्रतिशत और एलएंडटी में 1.80 प्रतिशत शेयर हैं। एक अधिकारी ने बताया कि सरकार Axis Bank और आईटीसी में अपनी हिस्सेदारी बेचने के लिए शेयर बाजार में बिक्री-योजना (आफर फार सेल) प्रस्तुत कर सकती है। एलएंडटी में एसयूयूटीआई के माध्यम से अपनी हिस्सेदरी बेचने के लिए कंपनी की शेयर पुनर्खरीद की पेशकश का इंतजार कर रही है। अधिकारी ने कहा कि हम Axis Bank और आईटीसी में थोक में अपनी हिस्सेदारी बेचने के लिए तैयार हैं। यह सब मूल्यांकन पर निर्भर करेगा। थोक हिस्सेदारी बेचने के सौदे से आशय कंपनी के कुल शेयरों का 0.5 प्रतिशत से अधिक बेचना होता है। यह हिस्सेदारी किसी एक क्रेता द्वारा एक ही विक्रेता को खुले बाजार में की जाती है। इसमें लेनदेन कम से कम पांच करोड़ रुपये का होना चाहिए।
सरकार ने फरवरी 2017 में आईटीसी में एसयूयूटीआई के दो प्रतिशत शेयर बेच कर 6,700 करोड़ रुपये जुटाए थे। इसी तरह नवंबर 2016 में एलएंडटी में 1.63 प्रतिशत बिक्री की थी। मार्च 2014 में सरकार ने एक्सिस बैंक में 9 प्रतिशत शेयर थोक में बेचे। इसमें उसे 5,500 करोड़ रुपये मिले थे। सरकार ने चालू वित्त वर्ष में विनिवेश से 80,000 हजार करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है। अब तक इससे 34,000 करोड़ रुपये प्राप्त हुए हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »