वित्तमंत्री ने Corporate कंपनियों को दिया सरप्राइज, शेयर बाजार झूमा

नई दिल्‍ली। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने आज Corporate कंपनियों को ऐसा सरप्राइज दिया कि शेयर बाजार झूम उठा और वहां समय से पहले ही दिवाली आ गई।
जीएसटी काउंसिल की बैठक से पहले वित्त मंत्री ने सुस्त इकॉनमी को रफ्तार देने के लिए आज फिर बड़े ऐलान किए। तमाम विशेषज्ञ तो इसे मिनी बजट करार दे रहे हैं। वित्तमंत्री ने घरेलू कंपनियों और नई घरेलू मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों के लिए Corporate टैक्स की दरों में कटौती का प्रस्ताव रखा। ग्रोथ को प्रमोट करने के लिए वित्तमंत्री ने नई घरेलू कंपनियों के लिए Corporate टैक्स की दर को घटाकर 22% कर दिया है, बशर्ते कॉर्पोरेट्स ने किसी तरह का इन्सेंटिव या छूट न ली हो। वित्तमंत्री के ऐलानों से शेयर बाजार खिलखिला उठा है। बाजार में दिवाली जैसी रौनक है और लगभग सभी प्रमुख सेक्टरों में उछाल दिख रही है।
Corporate टैक्स घटाने का ऐलान
ग्रोथ और निवेश को बढ़ाने के लिए इनकम टैक्स एक्ट में बदलाव मौजूदा वित्त वर्ष यानी 2019-20 से होगा लागू। घरेलू कंपनियों पर बिना किसी छूट के इनकम टैक्स 22 प्रतिशत होगा और सरचार्ज और सेस जोड़कर प्रभावी दर 25.17 फीसदी हो जाएगी। पहले यह दर 30 प्रतिशत थी। वित्तमंत्री ने बताया कि Corporate टैक्स घटाए जाने और अन्य रियायतों से सरकार के खजाने पर 1.45 लाख करोड़ रुपये का बोझ पड़ेगा।
मेक इन इंडिया को बूस्ट
मेक इन इंडिया को बूस्ट देने के लिए उन्होंने इनकम टैक्स एक्ट में एक क्लॉज जोड़ा। वित्त वर्ष 2019-20 में 1 अक्टूबर से बाद में गठित घरेलू कंपनी जो मैन्युफैक्चरिंग में निवेश करेगी, उसेके पास 15 पर्सेंट की दर से आयकर देने का विकल्प होगा। यानी 1 अक्टूबर 2019 को या उसके बाद भारत में गठित किसी भी कंपनी पर 15 फीसदी टैक्स लगेगा। अगर वे 31 मार्च 2023 से पहले उत्पादन शुरू कर देती हैं तो 15 प्रतिशत टैक्स लगेगा। सभी तरह के सरचार्ज और सेस समेत 17.10 प्रतिशत प्रभावी दर होगी।
शेयर बाजार में लिस्टेड कंपनियों के लिए क्या खास
कंपनियों के लिए एक और सौगात का ऐलान करते हुए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि 5 जुलाई 2019 से पहले शेयरों के बायबैक का ऐलान करने वाली कंपनियों पर सुपर रिच टैक्स नहीं लगेगा।
कैपिटल गेन्स पर असर
कैपिटल मार्केट में फंड का प्रवाह बढ़ाने के लिए वित्तमंत्री ने कहा कि जुलाई में बजट में बढ़ाया गया सरचार्ज कंपनी में शेयरों की बिक्री और इक्विटी फंड यूनिट बिक्री से होने वाले कैपिटल गेन्स पर प्रभावी नहीं होगा। इसमें FPIs के डेरिवेटिव्स भी शामिल हैं।
MAT में राहत
इन्सेंटिव और छूट ले रहीं कंपनियों को राहत देने के लिए भी वित्तमंत्री ने कुछ ऐलान किए। उन्हों ने कहा कि ऐसी कंपनियों को मिनिमम ऑल्टरनेट टैक्स(MAT) रिलीफ दिया जा रहा है। MAT को 18.5% की दर से घटाकर 15% कर दिया गया है।
शेयर बाजार में खुशी का माहौल
वित्तमंत्री के ऐलानों से शेयर बाजार झूम उठा। ऐलान के तुरंत बाद बाजार में लिवाली तेज हो गई और बीएसई का प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स में 1800 पॉइंट्स से ज्यादा तक की उछाल देखने को मिली।
बैंकिंग और ऑटो शेयरों में सबसे ज्यादा बढ़त देखने को मिल रही है। अशोक लेलैंड, आयशर मोटर्स जैसी कंपनियों के शेयरों में 10 प्रतिशत से ज्यादा उछाल आया है। एचडीएफसी बैंक और आरबीएल बैंक के शेयरों में भी 8 से 9 प्रतिशत का उछाल देखने को मिल रहा है। निफ्टी में भी 500 से ज्यादा अंकों की उछाल देखने को मिली और वह बहुत दिनों बाद 11 हजार के स्तर के पार गया है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »