आखिर नीलाम हो ही गया भगोड़े विजय माल्‍या का Luxury Jet

बेंगलुरु। आखिरकार भगोड़े विजय माल्या का आलीशान Luxury Jet नीलाम हो ही गया। माल्या का लग्जरी जेट 34.08 करोड़ रुपये में बिका।
दरअसल, कानूनी अड़चनों के बाद माल्या के प्राइवेट जेट की तीन बार नीलामी की गई लेकिन हर बार किसी न किसी कारण से यह पूरी नहीं हो सकी।
माल्या के Luxury Jet को मिला नया मालिक
बता दें कि बैंक का हजारों करोड़ रुपए का कर्ज लेकर देश से फरार माल्या का लग्जरी प्राइवेट जेट हमेशा सुर्खियों में रहा है। ऐशो-आराम की सभी सुविधाओं से लैस इस जेट का रजिस्ट्रेशन नंबर भी वीआईपी है लेकिन अब A319-133C VT-VJM MSN 2650 रजिस्ट्रेशन नंबर वाले वीआईपी जेट को उसका नया मालिक मिल गया है।
अमेरिका की इस कंपनी ने खरीदा विमान
अमेरिका बेस्ड विमानन कंपनी ‘एविएशन मैनेजमेंट सेल्स’ ने विजय माल्या का ये प्राइवेट Luxury Jet खरीदा है। उच्चतम बोली बॉम्बे हाईकोर्ट की मंजूरी के अधीन है। जेट को खरीदने के लिए अमेरिकी कंपनी ने 5.05 मिलियन डॉलर की बोली लगायी, जो पिछली बार सर्विस टैक्स डिपार्टमेंट द्वारा करायी गई ई-नीलामी की बोली की रकम से काफी ज्यादा है। बता दें कि नीलामी की शुरुआत ही 1.9 मिलियन डॉलर से की गई।
गौरतलब है कि ये नीलामी कारोबारी विजय माल्या की किंगफिशर एयरलाइंस पर बकाया सर्विस टैक्स की रिकवरी के तहत की गई थी।
पिछले पांच सालों से नहीं भरी उड़ान
विजय माल्या का ये प्राइवेट Luxury Jet बेहद शानदार है। इसका इंटीरियर कस्टमाइज्ड और लग्जरी से भरपूर है। सूत्रों के मुताबिक माल्या के इस जेट की स्टैंटर्ड विशेषताओं के मुताबिक करीब 100 मिलियन डॉलर थी लेकिन नीलामी के कारण ये अमेरिकी कंपनी को बेहद ही कम दामों में मिल गया।
पिछले पांच सालों से इस Luxury Jet ने कोई उड़ान नहीं भरी है इसलिए ग्राउंडेड कंडीशन को देखते हुए जेट इतने कम दामों में नीलाम हो गया। बता दें कि सर्विस टैक्स विभाग ने इस जेट को मुंबई के छत्रपति शिवाजी इंटरनेशनल हवाई अड्डे पर खड़ा किया हुआ था। इसको लेकर एयरपोर्ट अथॉर्रिटी बॉम्बे हाईकोर्ट पहुंच गई थी।
2013 में सीज किया जेट
सितंबर 2013 में सर्विस टैक्स विभाग ने जेट को सीज कर दिया था।
तक से लेकर अब तक ये मुंबई हवाई अड्डे पर खड़ा था। एयरपोर्ट अथॉरिटी ने जगह की कमी का हवाला दिया और बॉम्बे हाईकोर्ट पहुंच गई।
अथॉरिटी ने कहा, जेट की पार्किंग की वजह से उसे हर घंटे करीब 13-15 हजार रुपयों का नुकसान उठाना पड़ रहा है।
जिसके बाद बॉम्बे हाईकोर्ट ने जेट को बेचने के लिए साल 2018 में मामले को कर्नाटक हाईकोर्ट भेज दिया।
किंगफिशर एयरलाइंस बेंगलुरु बेस्ड कंपनी थी इसलिए केस को वहां ट्रांसफर किया गया।
जेट की खासियत
इस लग्जरी जेट में छह क्रू मेंबर समेत 25 यात्री एक साथ उड़ान भर सकते हैं।
जेट में एक बेडरूम, बाथरूम, बार और कॉन्फ्रेंस रूम के आलावा कई अन्य सुविधाएं मौजूद हैं।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »