रेस्टोरेंट में हंगामा करने वाली महिला वकील ने अब थाने में किया हंगामा

मेरठ। दारोगा के साथ शहर के एक रेस्टोरेंट में तीन दिन पहले तहलका मचाने वाली महिला अधिवक्ता कल रात एक बार फिर चर्चा में आ गई। नशे में धुत इस महिला ने कार से चार लोगों को टक्कर मारने के बाद फिर थाना में काफी हंगामा किया। इंस्पेक्टर के साथ अभद्रता करने के साथ ही नशे में धुत इस महिला अधिवक्ता ने महिला सिपाहियों के भी बाल खींचे।
महिला अधिवक्ता दीप्ति चौधरी का दारोगा तथा पार्षद के साथ कांड अभी निपटा भी नहीं था कि कल देर शाम उसने एक और बवाल कर दिया। नशे में धुत दीप्ति चौधरी ने एसएसपी आफिस से लेकर माल रोड के बीच अपनी कार से चार लोगों को टक्कर मारी। इसमें कई लोग घायल हो गए। लोगों ने पकड़कर उसे पुलिस को सौंप दिया। पुलिस ने उसके खिलाफ दो लोगों की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया और गिरफ्तार करके मेडिकल के लिए भेजा। इस दौरान महिला अधिवक्ता ने थाने में खूब हंगामा काटा। महिला पुलिसकर्मियों के बाल तक नोंच डाले और हाथापाई की।
पीडि़तों का आरोप है कि महिला नशे में धुत होकर गाड़ी चला रही थी। पुलिस का कहना है कि मेडिकल रिपोर्ट के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा कि महिला शराब के नशे में थी या नहीं। एएसपी सतपाल ने बताया कि मेडिकल रिपोर्ट में शराब पीने की पुष्टि हो गई।
कार दौड़ाती गई और टक्कर मारती गई
दारोगा के साथ पार्षद के ब्लैक पेपर रेस्टोरेंट में हंगामा करने वाली, प्लेटें फेंकने वाली महिला अधिवक्ता कल देर शाम कचहरी से अपने चेंबर से निकली थी।
प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार महिला नशे में अपनी सेंट्रो कार चला रही थी। सबसे पहले उसने एसएसपी आफिस के पास सुरेंद्र पुत्र रामफल निवासी टीपीनगर की बाइक में टक्कर मारी। इसके बाद वह कुटी चौराहे पर एडवोकेट बृजेश चौधरी निवासी मंगल पांडेय नगर की कार को टक्कर मारी। यहां से कार को दौड़ाया और कुटी चौराहे से थोड़ा आगे अमित पुत्र पप्पू निवास नगर निगम कंपाउंड की बाइक को टक्कर मारी। यहां से भी कार को दौड़ा लिया और कैंट क्षेत्र में स्थित सीडीए आफिस के पास राकेश पुत्र जयप्रकाश निवासी सिखेड़ा गंगानगर की कार को टक्कर मार दी। यहां पर लोगों ने महिला को पकड़ लिया और पुलिस को सौंप दिया।
लगातार नशे की शिकायत
गाजियाबाद निवासी महिला अधिवक्ता की सास ने एडीजी प्रशांत कुमार से मिलकर बताया कि करीब एक महीने पहले यह दारोगा उसकी पुत्रवधू के साथ उनके घर पर पहुंचा था। उस समय भी दोनों नशे में थे। उसने खूब हंगामा काटा और बेटे को उठाकर ले आया, जबकि उनके बेटे का एफआइआर में नाम तक नहीं था। अगले दिन शाम को पांच बजे उसे छोड़ा। शराब के नशे में हंगामे की सीसीटीवी फुटेज भी है। घर में तोडफ़ोड़ का भी आरोप है। इस संबंध में गाजियाबाद एसएसपी को शिकायत दी थी लेकिन कार्यवाही नहीं हुई। दारोगा के खिलाफ कोर्ट के आदेश पर भी मुकदमा दर्ज कराने के लिए महिला का पति लगातार प्रयासरत है। महिला की सास के गंभीर आरोप है कि वह शराब के नशे में उनके घर आती थी। जिस कारण शादी टूट गई।
महिला अधिवक्ता का पुलिस पर आरोप
महिला अधिवक्ता दीप्ति चौधरी ने थाने पर हंगामा करते हुए पुलिस पर ही उल्टा आरोप लगाना शुरू कर दिया। उसका कहना था कि उसने किसी को टक्कर नहीं मारी। खुद उस पर हमला हुआ है। पुलिस ने उसकी एक नहीं सुनी और गिरफ्तार कर लिया।
यह बोले प्रत्यक्षदर्शी
प्रत्यक्षदर्शी मोनू, पीड़ित सुरेंद्र व बृजेश ने बताया कि महिला अधिवक्ता दीप्ति चौधरी शराब के नशे में थी। उससे कार संभल नहीं रही थी। उसने थाने में भी पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट का प्रयास किया। एक महिला पुलिसकर्मी के बाल नोंच डाले। इस दौरान आरोपित ने थाने में जमकर हंगामा किया।
आज कोर्ट में किया जाएगा पेश
सीओ कैंट व एएसपी क्राइम सतपाल अंतिल ने बताया कि महिला अधिवक्ता दीप्ति चौधरी के खिलाफ एक्सीडेंट करने व लापरवाही से कार चलाने के दो मुकदमे दर्ज कर किए गए हैं। महिला का मेडिकल कराया गया है, जिसमें शराब पीने की पुष्टि हो गई है। प्रथमदृष्टया महिला नशे में लग रही है। उसे कोर्ट में पेश किया जाएगा।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »