देवबंद का फतवा: मुस्लिम औरतों का गैरमर्दों से चूड़ियां पहनना शरीयत के खिलाफ

इस्लामिक शिक्षण संस्था दारूल उलूम देवबंद ने फतवा जारी कर कहा है कि मुस्लिम औरतों का घर के बाहर गैरमर्दों के हाथों से चूड़ियां पहनना शरीयत के खिलाफ है.
दारुल उलूम के फतवा विभाग के सदर मुफ्ती हबीबुलरहमान खैराबादी ने आज बताया कि एक व्यक्ति ने संस्था से लिखित सवाल किया था कि औरतों को चूड़ियां पहनने के लिये अपने हाथ गैर मर्दों के हाथ में देने पड़ते हैं, क्या यह उचित है.
दारुल इस्ता ने कहा कि गैरमर्दो के हाथों से चूड़ियां पहनना सख्त गुनाह है. इससे हर मुस्लिम औरतों को बचना चाहिये.
दारुल उलूम इससे पहले महिलाओं के बाल कटवाने, भौंहे बनवाने, मिनी स्कर्ट पहनने और जीन्स पहनने तथा गैर मर्दों के साथ नौकरियां करने सम्बन्धी महिलाओं पर बंदिशें लगाने के फतवे भी जारी कर चुका है.
इस्लामिक शिक्षण संस्था दारूल उलूम देवबंद ने फतवा महिलाओें की स्वतत्रंता पर तरह तरह की रोक लगाने के कारण प्रगतिशील महिलाओं की नाराजगी झेल चुकी है.
-एजेंसी