FATF ने पाकिस्‍तान को फिर ‘ग्रे लिस्ट’ में डाला, काम नहीं आया 26 सूत्रीय ऐक्शन प्लान

इस्लामाबाद। पाकिस्तान को झटका देते हुए फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स FATF ने आतंक की फंडिंग रोक पाने में विफल रहने की वजह से पाक को ‘ग्रे लिस्ट’ में डाल दिया है।
बता दें कि FATF को पाकिस्तान ने 26 सूत्री ऐक्शन प्लान सौंपा था ताकि वह इस कार्यवाही से बच सके। हालांकि, पाकिस्तान एक बार फिर ब्लैक लिस्ट होने से बच गया है जो उसके लिए थोड़ी राहत की बात है।
आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक यह फैसला बुधवार देर रात पैरिस में FATF के प्लेनरी सेशन में लिया गया, जहां पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व उसके वित्त मंत्री शमशाद अख्तर कर रहे थे।
FATF पैरिस स्थित अंतर-सरकारी संस्था है। इसका काम गैर-कानून आर्थिक मदद को रोकने के लिए नियम बनाना है। इसका गठन 1989 में किया गया था। FATF की ग्रे या ब्लैक लिस्ट में डाले जाने पर देश को अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं से कर्ज मिलने में काफी कठिनाई आती है।
यह घोषणा पाकिस्तान की तरफ से 26 सूत्रीय ऐक्शन प्लान सौंपे जाने के एक दिन बाद आई है। इस प्लान के तहत पाकिस्तान ने मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद की जेयूडी सहित अन्य आतंकी संगठनों को मिल रही आर्थिक फंडिंग को रोकने पर मंजूरी जताई थी ताकि उसे ब्लैक लिस्ट न किया जाए। हालांकि, ग्रे लिस्ट में जाने से भी पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था पर असर पड़ सकता है। इससे बहुराष्ट्रीय कंपनियों के निवेश पर भी विपरीत असर पड़ता है।
पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक यह राजनीति से प्रेरित फैसला है और इसका आतंक के खिलाफ पाकिस्तान की कार्यवाही से कोई लेनादेना नहीं है। FATF के मुताबिक पाकिस्तान अब एक साल या उससे ज्यादा समय के लिए इस लिस्ट में रहेगा। हालांकि, उसे समय से पहले इस सूची से हटाया भी जा सकता है, जैसा कि पहले भी हो चुका है।
बता दें कि इससे पहले पाकिस्तान साल 2012 से 2015 तक FATF की ग्रे लिस्ट में रहा है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »