हिंदी के प्रसिद्ध गीतकार गोपाल दास नीरज का निधन

नई दिल्‍ली। हिंदी के प्रसिद्ध गीतकार गोपाल दास नीरज का निधन हो गया। मशहूर कवि और गीतकार पद्मभूषण गोपालदास नीरज की तबीयत मंगलवार को खराब हो गई थी जिसके बाद उन्हें आगरा के लोटस हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। तबियत बिगड़ने के बाद उन्हें दिल्ली एम्स में भर्ती कराया गया था जहां उनका निधन हो गया। गोपाल दास नीरज का जन्म 4 जनवरी 1925 को उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के पुरवली गांव में हुआ था. वह हिंदी मंचो के प्रसिद्ध कवि थे।

फिल्मों में कई सुपरहिट गाने लिख चुके कवि गोपालदास नीरज का जन्म यूपी के इटावा जिले के ग्राम पुरावली में हुआ था. उन्हें अपनी लेखनी के लिए कई सम्मान मिल चुके हैं। उन्हें 1991 पद्मश्री से सम्मानित किया गया। नीरज को 2007 में पद्मभूषण सम्मान से नवाजा गया। इतना ही नहीं उत्तर प्रदेश सरकार ने उन्हें यश भारती सम्मान से भी सम्मानित किया है। बॉलीवुड में कई सुपरहिट गाने लिख चुके गोपालदास नीरज को तीन बार फिल्म फेयर अवार्ड भी मिल चुका है।

अस्‍पताल में भर्ती किये गये थे

Chest इंफेक्शन के बाद अस्‍पताल में भर्ती कवि गोपालदास नीरज की स्‍थिति में अब सुधार दिखाई दे रहा है। अलीगढ़ में निवास कर रहे मशहूर कवि और गीतकार पद्मभूषण गोपालदास नीरज की तबीयत आज मंगलवार को अचानक बिगड़ गई जिसके बाद उन्हें सुबह कमला नगर स्थित साई हॉस्पीटल में भर्ती कराया गया था, लेकिन chest इंफेक्शन के बाद सांस लेने में हो रही परेशानी के चलते आगरा के दीवानी चौराहा स्थित लोटस हॉस्पीटल में शिफ्ट कर दिया गया। डॉक्टरों के मुताबिक 94 साल के नीरज को चेस्ट में इंफेक्शन और सांस लेने में दिक्कत है।

मशहूर कवि और गीतकार पद्मभूषण गोपाल दास नीरज की तबीयत में सुधार बताया जा रहा है। चिकित्सकों के अनुसार अब स्थिति सामान्य हो रही है।
डाक्‍टर्स के अनुसार भोजन करते वक्त खाने के कण गले में फंसने के कारण उन्हें सांस लेने में तकलीफ हुई थी जिसके कारण उन्हें हॉस्पीटल में भर्ती कराया गया। जांच में पता चला कि उन्हें Chest में संक्रमण की शिकायत भी है। ब्लड प्रेशर भी बढ़ा हुआ है। आगे की जांच के लिए उन्हें लोटस हॉस्पीटल में शिफ्ट किया गया है। मशीनों के माध्यम से नली की सफाई की जा रही है। जल्द ही हालत में सुधार होगा।

कवि नीरज के पुत्र अरस्तू प्रभाकर के अनुसार कवि नीरज की हालत चिंताजनक नहीं है। रात तक वे बिल्कुल ठीक थे। सुबह ही खाना खाते वक्त परेशानी हुई। एहतियातन उन्हें हॉस्पीटल में भर्ती कराया गया था।

-Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »